स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

उज्जवला : हितग्राही अब 14 की जगह ले सकते हैं पांच किलो वाला गैस सिलेंडर

Vasudev Yadav

Publish: Jul 19, 2019 18:02 PM | Updated: Jul 19, 2019 18:02 PM

Janjgir Champa

PM Ujjwala Yojana : फेस-2 शुरू, गैस एजेंसी में जाकर कर सकते हैं आवेदन, पुराने 14 किलो वाले सिलेंडर को बदलवा सकते हैं 5 किलो वाले सिलेंडर में

जांजगीर-चांपा. केंद्र में दोबारा पीएम नरेंद्र मोदी के आने के बाद प्रदेश में उज्ज्वला (PM Ujjwala Yojana ) का रास्ता साफ हो चुका है कि फेज-2 में आवेदित परिवारों को उज्ज्वला (Ujjwala Yojana ) का लाभ दिया जाएगा। इस प्रोजेक्ट के तहत जिले के ऐसे परिवार जिनके पास राशनकार्ड है और अब तक उन्हें गैस सिलेंडर नहीं मिला है। ऐसे शेष परिवारों को गैस कनेक्शन दिया जाएगा। इस साल उज्जवला (Ujjwala) में एक बदलाव भी हुआ है जिसमें हितग्राही 14 की जगह 5 किलोग्राम वाला सिलेंडर भी ले सकते हैं।

महंगा और रिफिलिंग का प्रतिशत कम होने के कारण छोटा सिलेंडर देने का फैसला किया गया है। केंद्र सरकार ने 18 दिसंबर को उज्ज्वला फेज-2 लॉन्च कर दिया था। राज्य में कांग्रेस की सरकार आते ही राज्य से मिल रहे अनुदान को बंद कर दिया गया था, तब से अब तक उज्ज्वला (Ujjwala) के तहत वितरण बंद है। क्योंकि अब तक केंद्र के साथ-साथ राज्य सरकार भी एलपीजी (LPG) वितरण में हितग्राही परिवारों को सब्सिडी दे रही थी। शुरू से ही उज्ज्वला योजना किस्त सिस्टम पर आधारित थी, लेकिन भाजपा शासित राज्यों ने यह फैसला किया कि वे केंद्र के सब्सिडी काट लेने के बाद अंतर की राशि सरकारी खजाने से पूरा करेंगे। हितग्राही को मात्र 200 रुपए में एलपीजी कनेक्शन दिया जाएगा। छत्तीसगढ़ में भी भाजपा सरकार ने ऐसा ही किया।

Read More : नगर निगम ने 35 वार्ड के सफाई टेंडर खुलने से पहले कर दिया निरस्त, ये है वजह...

ऐसे समझें, सरकार कितने रुपए दे रही थी सब्सिडी
एक एलपीजी (LPG) कनेक्शन लेने पर लोगों को 34 से 35 सौ रुपए तक खर्च करने पड़ते हैं। इसमें 14 किलोग्राम वाली टंकी जिसका मूल्य 1250 रुपए, रेगुलेटर 150 रुपए का खर्च केंद्र सरकार वहन करती थी। 25 रुपए का कार्ड, 100 रुपए का पाइप और 75 रुपए वितरक के यानी कुल 200 रुपए उज्ज्वला (Ujjwala) लाभाविंत हितग्राहियों से लिए जाते थे। जबकि 990 रुपए चूल्हा और करीब 800 रुपए का पहला रिफिल राज्य सरकार वहन करती थी।
महंगाई के कारण कम हुआ रिफिलिंग का ग्राफ
सरकार की उज्ज्वला योजना (Ujjwala Yojana) के तहत एलपीजी कनेक्शन लेने वाले परिवार सिलेंडर की रेगुलर रिफिलिंग नहीं करा रहे हैं। रेट बढऩे के कारण पिछले तीन महीने में रिफिल के ग्राफ तेजी से नीचे गिरे हैं। वर्तमान में 40 फीसदी परिवार ही रिफलिंग करा रहे हैं। ऐसे में केंद्र सरकार ने फैसला किया है कि उज्ज्वला (Ujjwala Yojana) लाभान्वित परिवारों को दिए गए 14 किलोग्राम के सिलेंडर को बदलकर पांच किलोग्राम वाला सिलेंडर दिया जाएगा। सरकार को उम्मीद है कि कीमत कम होने से रिफिलिंग में बढ़ोतरी होगी।

Read More : किसानों की चिंता बढ़ी, कहा- इस बार सूखे जैसे हालात, बारिश नहीं हुई तो परिवार चलाना हो जाएगा मुश्किल
14 बिंदु का घोषणा पत्र भरकर देना होगा
जिनके पास गैस कनेक्शन नहीं है, वे पास के वितरक से संपर्क कर सकते हैं और उन्हें उज्ज्वला कनेक्शन दिया जाएगा। सभी इंडेन वितरक गैस कनेक्शन न होने वाले लाभार्थियों से केवाईसी फार्म लेने के लिए गांववार शिविर भी कर रहे हैं। आवेदक को राशन कार्ड और परिवार के सभी वयस्क सदस्य का आधार कार्ड देना होगा जिनकी उम्र 18 वर्ष से अधिक है। इसके अलावा, सरकार द्वारा निर्धारित 14 बिंदु घोषणा प्रारूप को भी भरना होगा।

जिन उपभोक्ताओं ने गैस सिलेंडर पूर्व में लिए हैं, वह उपभोक्ता संबंधित गैस एजेंसी में जहां से उनका कनेक्शन जारी हुआ है वहां 14.2 किलो वाला सिलेंडर जमा कर उसके बदले में 5 किलो वाला सिलेंडर ले सकते हैं। इन छोटे सिलेंडर की सप्लाई घर बैठे उपभोक्ताओं को मिल सकेगी। पेट्रोलियम मंत्रालय, भारत सरकार के निर्देश पर संबंधित ऑयल कंपनियों ने अपने-अपने एलपीजी (LPG) वितरकों को जारी कर इसका पालन करने कहा है।

कई बार उनके पास रिफील करवाने पैसे नहीं होते जिसके चलते वह लोग गैस सिलेंडर के स्थान पर घर में लकड़ी, कोयला, गोबर का कंडा जैसे परंपरागत साधनों से खाना बनाते है जिससे उनके स्वास्थय पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। ऐसे में उन्हें दमा, स्वांस जैसी जटिल बीमारियों से गुजरना पड़ता है इसी सब को ध्यान में रखते हुए पेट्रोलियम मंत्रालय ने सभी गैस कंपनियों को ग्राहक की इच्छा के अनुसार 14.2 किलोग्राम के सिलेंडर से 5 किलोग्राम के सिलेंडर की अदला-बदली करने का निर्देश दिया है।