स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बेटे की नौकरी लगाने के लिए संकुल प्रभारी ने स्कूल के खाते से ही निकाल लिया तीन लाख रुपए

Vasudev Yadav

Publish: Jul 17, 2019 18:09 PM | Updated: Jul 17, 2019 18:08 PM

Janjgir Champa

Janjgir-champa crime : खोखरा संकुल केंद्र का मामला, फोन बंद कर नदारद है संकुल प्रभारी

जांजगीर-चांपा. बेटे की नौकरी लगाने के लिए संकुल प्रभारी को जब बड़ी रकम की जरूरत पड़ी तो उसने कहीं और से नहीं बल्कि स्कूल के खाते से ही कूटरचना कर तीन लाख 1 हजार रुपए निकाल लिया। शिक्षा अधिकारियों के द्वारा गोपनीय रूप से जब उससे पूछताछ की गई तब इसके पीछे उसने यह तर्क दिया कि पुटपुरा मिडिल स्कूल में अहाता निर्माण कराने के लिए वह राशि निकाला है। मामला जब बुधवार को उजागर हुआ तब वह मोबाइल बंद कर लापता हो गया है। फिलहाल शिक्षा अधिकारी उसकी तलाश कर रहे हैं।
सरकारी राशि में भ्रष्टाचार करने अधिकारी किस कदर नीयत खराब कर देते हैं इसका जीता जागता उदाहरण जांजगीर-चांपा जिले में देखा जा सकता है। कुछ इसी तरह का मामला जिला मुख्यालय से सटे ग्राम खोखरा संकुल केंद्र में सामने आया है। बताया जा रहा है कि खोखरा के संकुल केंद्र प्रभारी ओमप्रकाश उपाध्याय ने 25 अप्रैल को अपने ही संकुल केंद्र की राशि में बड़ा हेरफेर किया है। उसने संकुल केंद्र खोखरा के मिडिल स्कूल पुटपुरा में अहाता निर्माण कराने के लिए आज से 4 माह पहले सरकारी खाते से तीन लाख रुपए आहरण कर लिया है। इसकी भनक लगने के बाद शिक्षा विभाग के अधिकारियों की आंख खुल गई। अधिकारियों की टीम जब मामले की जांच करने उसके स्कूल का दौरा किया तब वह स्कूल से नदारद मिला।

Read More : मृतकों के नाम सोसायटी में धान बिक्री, धान खरीदी में व्यापक भ्रष्टाचार की शिकायत, एक माह बाद भी नहीं सौंप पाए रिपोर्ट

स्वीकार की गलती
इतने बड़े मामले की शिकायत आने पर अधिकारियों की एक टीम उसके घर गई तब वह बड़ी मुश्किल से मिला। पूछताछ के दौरान वह यही दलील देता रहा कि उसके बेटे की नौकरी लगाने के लिए उसे पैसे की जरूरत पड़ी थी। जिसके चलते उसने यह राशि निकाली है। वह राशि को फिर सरकारी खाते में जमा कर देगा।

Read More : पत्नी की जान लेने की कोशिश, पति को सात साल कैद की सजा

एक ईंट भी नहीं रखी गई
काफी दिनों पहले से पुटपुरा मिडिल स्कूल में अहाता निर्माण के लिए सरकार से राशि स्वीकृत हुई है। अहाता निर्माण के लिए सरकार से रकम तीन लाख 1 हजार रुपए जारी कर दी गई है। यह राशि संकुल के खाते में जमा है। संकुल प्रभारी को इतनी राशि जमा होने के बाद उसकी आंख फड़क रही थी। अहाता निर्माण कराने के बजाए उसने यह राशि निकाला जरूर लेकिन निजी स्वार्थ के लिए इस्तेमाल कर दिया। जिससे शिक्षा विभाग में हड़कंप मच गया है।

वर्जन
मामले की शिकायत मिली है। शिकायत मिलने के बाद जांच करने स्कूल गए थे, लेकिन वह मिला नहीं। स्कूल में तीन लाख एक हजार रुपए की गड़बड़ी हुई है। संकुल प्रभारी के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
राजीव नयन शर्मा, एबीईओ, नवागढ़