स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

केएसके भू-विस्थापित मजदूर संघ ने किया मुलमुला थाना का घेराव

Vasudev Yadav

Publish: Sep 12, 2019 18:27 PM | Updated: Sep 12, 2019 18:27 PM

Janjgir Champa

KSK Power Plant : ठेकाकर्मी मजदूर संघ के खिलाफ बलवा का मामला दर्ज, प्लांट से 1500 मेगावट बिजली होता है उत्पादन, प्लांट में दो दिन से ठप है बिजली का उत्पादन
- केएसके पावर प्लांट में भूविस्थापित व ठेका मजदूर संघ के बीच हुई मारपीट, मामला पहुंचा थाना

जांजगीर-चांपा. प्लांट प्रबंधन ने भू-विस्थापित संघ की सैलरी बढ़ा दिए। जिससे ठेका मजदूर संघ भी वेतन बढ़ाने के लिए लामबंद हो गए। इस बीच दोनो संघ के बीच मारपीट भी शुरू हो गई। इस दौरान प्लांट में तीनो इकाई का प्रोडक्शन बंद हो गया। भू-विस्थापित संघ ने मुलमुला थाना का घेराव कर दिए। उसके बाद दूसरे दिन तहसीलदार सहित अन्य अफसर मजदूर संघ को समझाइश देने प्लांट पहुंचे। इस तरह दूसरे दिन भी प्लांट के तीनों इकाई में बिजली उत्पादन ठप रहा।
केएसके महानदी प्लांट के मजदूर संघ ने सप्ताह भर पहले मांगों को लेकर टूल डाउन किए थे। कंपनी प्रबंधन ने मजदूर संघ की एक मांग पूरा करने के बाद अन्य मांग को सप्ताह भर के अंदर मांग को पूरा करने का आश्वासन दिया था। इसके बाद प्लांट प्रबंधन द्वारा सभी भू-विस्थापित मजदूर संघ का वेतन न्यूनतम 17 हजार से ऊपर से कर दिए। जिससे संघ के सदस्य में खुशी लहर दौड़ गई। वेतन बढऩे की जानकारी ठेकाकर्मी संघ को चली तो उन्होंने प्लांट में हंगामा करना शुरू कर दिए। उनका कहना था कि ठेकाकर्मियों का भी वेतन बढ़ाया जाए। इस बीच दोनों मजदूर संघ के बीच हाथापाई शुरू हो गया। बताया जा रहा है कि भू-विस्थापित संघ के मजदूरों की पिटाई कर दी गई। जिसमें से मारपीट से एक मजदूर लोभन को ज्यादा चोट पहुंची थी। बड़ी संख्या में आक्रोशित भू-विस्थापित संघ वालों ने रात को मुलमुला थाना का घेराव कर दिए। उन लोगों का कहना है कि ठेकाकर्मी संघ वालों ने हाथापाई की है। उस पर कार्रवाई किया जाए। कार्रवाई की मांग को लेकर मजदूर संघ बड़ी संख्या में थाना के सामने डटे रहे। बाद में थाना प्रभारी द्वारा लोभन साहू को मेडिकल के लिए अस्पताल भेजा गया। इसके बाद एफआईआर दर्ज करने की बात कही गई। तब जाकर मजदूर संघ के सदस्य वापस लौटे। मुलमुला थाना में ठेकाकर्मी संघ के खिलाफ बलवा के तहत धारा 147, 148, 149, 294, 506, 323 का मामला दर्ज किया गया।

READ MORE : फर्जीवाड़ा कर मड़वा पावर प्लांट में कर रहा था नौकरी, आरोपों में घिरे एसडीएम पढ़िए पूरी खबर...
1500 मेगावाट बिजली का होता है उत्पादन
केएसके पावर प्लांट में 1500 मेगावट बिजली का उत्पादन होता है। यहां से बिजली की सप्लाई चार राज्यों में किया जाता है। उत्तरप्रदेश में 550 मेगावाट, तमिलनाडू में 550 मेगावाट, आंध्रप्रदेश में 250 मेगावाट और छत्तीसगढ़ में 150 मेगावाट बिजली की सप्लाई की जाती है। प्लांट में काम बंद होने से चार राज्यों में सप्लाई बंद है।

READ MORE : महानदी तट पर टेंट लगाकर ताशपत्ती पर लगा रहे थे दांव
भू-विस्थापित मजदूरों ने देर शाम प्लांट अंदर कराया गया प्रवेश
मजदूर संघ को समझाइश का दौर दूसरे दिन गुरूवार को दिनभर जारी रहा। प्लांट के अधिकारी व तहसीलदार की टीम समझाइश के लिए प्लांट पहुंचे थे। देर शाम भू-विस्थापित मजदूरों को प्लांट चालू कराने के लिए प्रवेश कराया गया। वहीं ठेकाकर्मी प्लांट के बाहर ही रहे। उनको अंदर नहीं जा सके। रात तक समझाइश का दौर चलता रहा।

READ MORE : बाथरूम के नीचे तहखाना बनाकर रखता था ये सामान पढ़िए पूरी खबर...
प्लांट में दो दिन से बिजली उत्पादन ठप
मजदूर संघ द्वारा लंबे समय से अपनी मांगों को लेकर प्लांट परिसर में आंदोलन कर रहे हैं। लेकिन उन लोगों का मांग पूरा नहीं हो सका है। बुधवार से हंगामा होने के कारण प्लांट में पूरी तरह से बिजली उत्पादन ठप है। जो दूसरे दिन गुरूवार को बिजली उत्पादन शुरू नहीं हो सका।

वर्जन
भू-विस्थापित मजदूर संघ बड़ी संख्या में रात में थाना पहुंचे थे। जिससे बलवा का मामला दर्ज किया गया है। अभी भी मामला शांत नहीं हुआ है।
केपी टंडन, थाना प्रभारी, अकलतरा