स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

जांजगीर में अब तक सिर्फ इतनी बारिश, सावन भी नहीं ला सका किसानों के चेहरे पर बहार यही हाल रहा तो होगी मुश्किल

Vasudev Yadav

Publish: Aug 12, 2019 19:53 PM | Updated: Aug 12, 2019 19:53 PM

Janjgir Champa

Rain in janjgir champa- सावन का महीना भी अब विदाई की बेला में पहुंच गया है। तीन दिन ही शेष बचे हैं। 16 अगस्त से भादो का महीना शुरू हो जाएगा। इधर सावन महीने में बारिश जरूर हुई है लेकिन इतनी भी नहीं हुई कि बारिश का औसत आंकड़ा बढ़ा सके।

जांजगीर-चांपा. सावन का महीना भी अब विदाई की बेला में पहुंच गया है। तीन दिन ही शेष बचे हैं। 16 अगस्त से भादो का महीना शुरू हो जाएगा। इधर सावन महीने में बारिश जरूर हुई है लेकिन इतनी भी नहीं हुई कि बारिश का औसत आंकड़ा बढ़ा सके। सावन बीतने को है मगर बारिश पिछले साल से 192.2 मिमी कम ही है।


12 अगस्त तक की स्थिति में जिले में औसत बारिश 66.1 प्रतिशत ही हो सकी है। पिछले साल 12 अगस्त की स्थिति में जिले में 643.6 मिमी औसत बारिश हो चुकी थी जबकि इस साल 12 अगस्त तक की स्थिति में 450.7 मिमी बारिश ही हुई है। रविवार को भी दोपहर में जमकर काले बादल छाए रहे लेकिन शहर में बारिश ही नहीं। सुबह हल्की बूंदाबांदी ही हुई जबकि शनिवार को ऐसी ही स्थिति रही।

हालांकि पिछले दिनों हुई अच्छी बारिश से रोपाई के काम में जरूर तेजी आई। जिले में बोनी का काम लगभग हो चुका है। रोपाई का काम ही बाकी है जो जारी है। बारिश कम होने से जिस एरिया में नहर का पानी नहीं पहुंच पाता वहां ही देरी हो रही है और किसान बड़ी ब्रेसबी से अभी भी अच्छी बारिश की राह देख रहे हैं।


पामगढ़ तहसील में हुई है सबसे अधिक वर्षा
इस साल जिले में पामगढ़ तहसील में सबसे अधिक वर्षा हुई है। यहां 12 अगस्त तक की स्थिति में 75.2 प्रतिशत यानी 566.2 मिमी औसत बारिश हो चुकी है। इसके बाद डभरा तहसील में सर्वाधिक 74.4 प्रतिशत बारिश हुई है। सबसे कम बारिश अकलतरा तहसील में 352.1 मिमी ही औसत बारिश हुई है जो 52.9 प्रतिशत ही है।


खाड़ी में बन रहा नया सिस्टम, होगी बारिश
मौसम विभाग के अनुसार उत्तर-पश्चिम बंगाल की खाड़ी में नए सिस्टम बनने की बात कही है। इससे 13 अगस्त को इसके बाद कुछ समय तक अच्छी बारिश की संभावना जताई है। दरअसल एक चक्रवाती घेरा उत्तर पूर्वी तथा बंगाल की खाड़ी के आसपास बना हुआ है। इसके प्रभाव से कम दबाव का क्षेत्र बंगाल की खाड़ी में बनने की संभावना है। यदि ऐसा हुआ कि प्रदेशभर में अच्छी बारिश होगी।


तहसीलों में बारिश की स्थिति
जांजगीर- 439.6 64.0
चांपा- 414.0 62.7
पामगढ़- 566.2 75.2
सक्ती- 391.5 65.6
मालखरौदा- 442.6 69.0
डभरा- 521.7 74.4
नवागढ़- 411.1 50.7
जैजैपुर- 439.4 73.7
अकलतरा- 352.1 52.9
बलौदा- 528.5 73.3
योग- 450.7 66.1