स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

एक तरफ चंद्रयान तक दस्तक, दूसरी ओर सड़क के अभाव में मरीजों की मौत

Vasudev Yadav

Publish: Sep 11, 2019 11:43 AM | Updated: Sep 11, 2019 11:43 AM

Janjgir Champa

Road shabby : बरपेल्हाडीह की सड़कें अब भी जस की तस, सड़क के लिए ग्रामीणों ने कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन

जांजगीर-चांपा. सक्ती विधानसभा क्षेत्र के ग्राम पंचायत सकरेली के आश्रित ग्राम बरपेल्हाडीह में पखवाड़े भर पहले संतोष पटेल की मौत इस नाम से हुई कि वहां सड़क नहीं होने से एंबुलेंस नहीं जा पाती। ग्रामीण मरीजों को खाट में लेकर अस्पताल ले जा रहे हैं। समय पर इलाज नहीं मिलने से मरीज बीच रास्ते में ही दम तोड़ देते हैं। हद तो तब हो जा रही है जब मरीज की मौत के बाद भी प्रशासन नींद से नहीं जागे। इसके चलते ग्रामीणों को कलेक्टर की दहलीज में आना पड़ा। कलेक्टर ने ग्रामीणों की बातें सुनी जरूर पर, डामरीकृत सड़क निर्माण के बजाए डब्ल्यूबीएम सड़क की अनुमति दी है। यह सड़क भी न जाने कब बनेगी यह केवल सपना से कम नहीं है।
भारत देश का नाम चीन जापान अमेरिका सहित विश्व के अग्रणी देशों में सुमार हो रहा है। विश्व के बड़े देशों की तरह हमारे देश के वैज्ञानिक भी चंद्रयान तक दस्तक दे चुके हैं। वहीं दुखद यह है कि आज भी कई गांव ऐसे हैं जहां कच्ची सड़क तक नहीं बन पाई है। सड़क नहीं होने से गांव में एंबुलेंश नहीं जा पाती। एंबुलेंस नहीं जा पाती तो लोगों को मरीजों को खाट में लिटाकर पक्की सड़क तक पहुंचना पड़ता है। कुछ इसी तरह जिले में बरपेल्हाडीह गांव है जहां आजादी से आज तक सड़क नहीं बन पाई है। लोग आज भी बदहाल सड़क से पैदल यात्रा कर पक्की सड़क तक पहुंचते हैं।

READ : थल सेना भर्ती में जिले से 82 युवाओं का चयन, कलेक्टर ने किया सम्मान
कलेक्टर को सुनाया दुखड़ा तो डब्ल्यूबीएम सड़क की अनुमति
बरपेल्हाडीह के ग्रामीण सरपंच रहस बाई गोंड़ के नेतृत्व में सोमवार को कलेक्टोरेट पहुंचे थे। ग्रामीणों ने अपनी मांगों का ज्ञापन कलेक्टर को सौंपा। कलेक्टर ने इस गांव में सड़क निर्माण की स्वीकृत तो दी, लेकिन डब्ल्यूबीएम सड़क की। ऐसे में ग्रामीणों को एक दो साल के भीतर फिर दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा। ग्रामीण उत्तम पटेल ने बताया कि उन्होंने गांव के दोनों ओर सड़क निर्माण की मांग की थी। पहली तो गांव से केसला पहुंच मार्ग तो वहीं दूसरी मांग गांव से आमादहरा के लिए, लेकिन कलेक्टर ने केसला पहुंच मार्ग के लिए डब्ल्यूबीएम सड़क की अनुमति दी है। ताकि यहां से संजीवनी जैसे वाहन पहुंच सके।

READ : किसान की मेहनत लाई रंग, चार एकड़ बंजर भूमि में दलहन-तिलहन की खेती कर बनाया रिकार्ड, खीरा, मक्का की उपज से ले रहे लाखों की आमदनी
वोट मांगने पहुंच जाते हैं नेता
बरपेल्हाडीह गांव सक्ती विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आता है। साल भर पहले विधानसभा चुनाव हुआ तो गांव में भाजपा कांग्रेस सहित तमाम पार्टी के नेता वोट मांगने पहुंचे थे। कांगे्रस नेताओं ने डॉ. चरण दास महंत को वोट देने की मांग की थी और गांव में सड़क निर्माण के लिए आश्वासन दिया था, लेकिन उन्हें वोट देने के बाद आज तक इस पार्टी के किसी नेताओं के दर्शन दुर्लभ हो गया है। इतना ही नहीं लोकसभा चुनाव में भी कई पार्टी के नेताओं ने गांव में घर-घर जाकर कई तरह का आश्वासन दिया था, लेकिन चुनाव के बाद किसी ने गांव की ओर पलटकर नहीं देखा। जिसके चलते आज भी ग्रामीण नारकीय जीवन जीने मजबूर हैं।