स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

जागो ग्राहक जागो : समझदारी से करें पटाखे की खरीदी

Vasudev Yadav

Publish: Oct 25, 2019 18:01 PM | Updated: Oct 25, 2019 18:01 PM

Janjgir Champa

Diwali Festival 2019: हाईस्कूल मैदान में सजा पटाखा दुकान में सुरक्षा का कोई इंतजाम नहीं

जांजगीर-चांपा. दीपावली का त्योहार है और पटाखे नहीं छोड़ें तो त्योहार का मजा भी नहीं, लेकिन क्या आप जानते है जिस पटाखे को आप खरीदने जाते है वह प्रिंट रेट से तीन गुना अधिक दर पर बेच कर आपकी मेहनत की कमाई पर बेहिसाब कमाई करते हैं पटाखा व्यवसायी। पटाखे खरीदने से पहले उसका रेट जरूर जानें और बिना मोलभाव के न खरीदें। वहीं बच्चों के लिए पटाखे खरीद रहे हैं तो बड़े पटाखे ना लें बच्चों को बड़े पटाखों से दूर ही रखें और सावधानी अवश्य अपनाएं। हर त्योहार उत्सव पर पटाखों की पूछपरख बढ़ जाती है। क्या आप जानते हैंै पटाखों की प्रिंट रेट से कई गुना कम कीमत रहता है।

वास्तविक कीमत से तीन गुना अधिक डिब्बों में लिखा होता है जिससे ग्राहक गुमराह हो जाते है। यदि आप दीवाली पर बच्चों के लिए पटाखे खरीदने जा रहे हैं तो उनके दामों को लेकर कुछ सावधानी जरूर बरतें, अन्यथा दुकानदार आपसे कई गुना अधिक कीमत वसूल सकता है। पटाखे के जिस पैकेट की वास्तविक कीमत मात्र 50 रुपए है, उस पर 160 रुपए तक की कीमत छपी हुई है। जाहिर है ग्राहक को पैकेट पर छपी कीमत पर ही पटाखे बेची जाती है। मोलभाव करने पर दुकानदार डिस्काउंट की बात कहकर दस-बीस रुपए कम भी कर देता है तो भी ग्राहक से दोगुना मुनाफा वसूल लिया जाता है।

Read More: बाजार पर मौसम का असर, खुदरा व्यापारी फुटपाथ पर नहीं सजा सके दुकान, पटाखा व्यापारियों की बढ़ी परेशानी

[MORE_ADVERTISE1]

पटाखे की असली कीमत व पैकेट पर छपी कीमत में अंतर समझना काफी मुश्किल है, जिसके कारण अक्सर ग्राहकों को अधिक कीमत पर पटाखे खरीदने पड़ते हैं। जानकारों का मानना है कि जिस पटाखा के पैकेट पर 160 रुपए कीमत छपी है उसकी अधिकतम कीमत 60-70 रुपए ही है लेकिन पटाखों के सभी पैकेटों पर असली कीमत से दो से तीन गुना अधिक कीमत छपी हुई है। शहर में पटाखों की दुकान हाईस्कूल ग्राउंड में लगाई जाती है। हर साल दुकानों में इजाफा हो रहा है। इस वर्ष तकरीबन 32 से 33 दुकानें लगाई गई है। प्रशासन ने दुकान आबंटन के पहले अपना निर्धारित शुल्क ले लिया है। शहर के व्यापारियों ने इस सीजन में करीब 25 से 30 लाख रुपए का कारोबार होने की उम्मीद जताई है।

सुरक्षा का कोई इंतजाम नहीं
हाईस्कूल मैदान स्कूल में पटाखे की दुकान सज गई है, लेकिन सुरक्षा के इंतजाम नहीं। एक फायर ब्रिगेड की गाड़ी खड़ी कर दी है। इसके अलावा कुछ भी व्यवस्था नहीं किया गया है। सुरक्षा को लेकर न ही रेत की और न ही फायर फाइटर की, इसे लेकर पालिका प्रशासन गंभीर नहीं। मैदान में 47 पटाखे दुकानें बिना किसी सुरक्षा के चल रही हैं। ऐसे में किसी घटना से इनकार नहीं किया जा सकता।

Read more: Chhattisgarh News

[MORE_ADVERTISE2]