स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

VIDEO : धरना स्थल पर गूंजती रही मंतू-रमन की आवाज, फिर कांग्रेसियों ने दोनों पूर्व सीएम का जलाया पुतला

Vasudev Yadav

Publish: Sep 16, 2019 13:46 PM | Updated: Sep 16, 2019 13:46 PM

Janjgir Champa

पुतले को छीनने के लिए पुलिस ने की कोशिश मगर कांग्रेसियों के सामने दिखे बेबस
नान घोटाले को लेकर जिला मुख्यालय में कांग्रेसियों ने जताया विरोध

जांजगीर-चांपा. अंतागढ़ उपचुनाव में हुई लोकतंत्र की हत्या व नागरिक आपूर्ति निगम (नान) में पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह व अजीत जोगी का प्रत्यक्ष नाम आने पर दोनों नेताओं के विरोध में जिला कांग्रेस कमेटी ने अनोखा प्रदर्शन किया। कांग्रेसियों ने पहले धरना स्थल पर घोटाले को लेकर हुई बातचीत का कैसेट चलाया और फिर इसके बाद अजीत जोगी और डॉ. रमन सिंह का पुतला जलाया।
पुतला दहन को रोकने कोतवाली प्रभारी समेत बड़ी संख्या में पुलिस जवान मौजूद थे लेकिन उनसे छीना छपटी के बीच ही कांग्रेसियों ने पुतला फूंक दिया और जमकर नारेबाजी की। कांग्रेसियों ने कहा कि प्रदेश के अंतागढ़ विधानसभा उप.चुनाव में हुई लोकतंत्र की हत्या मामले में मंतूराम पवार और नागरिक आपूर्ति निगम नान घोटाला मामले में शिवशंकर भट्ट के बयान में प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह व अजीत जोगी की संलिप्तता उजागर हुई है। कांग्रेस पार्टी हमेशा से उक्त प्रकरणों की जांच की मांग करते आ रही है। जांच प्रक्रिया आगे बढऩे पर खुलासा हो रहा है। जिससे तिलमिलाए नेताद्वय द्वारा हास्यास्पद बयान दिया जा रहा है। दोनों अपनी अपनी पार्टी के प्रमुख चेहरे हैं। उक्त प्रकरणों के उजागर होने से उनका चाल चरित्र उजागर हुआ है। दोनों नेताओं के विरोध में जिला कांग्रेस कमेटी द्वारा टेप चलाकर विरोध प्रदर्शन किया गया। पूरे छत्तीसगढ़ में अंतागढ़ नान घोटाले को लेकर सामने आ रहे बयानों के कारण रमन सिंह और अजीत जोगी के प्रति गहरी नाराजगी है।

READ MORE : डीजे वाले बाबू को कहा गाना बजाओ, फिर कुछ युवकों ने एक युवक की कर दी धुनाई, अपराध दर्ज
पुलिस के जवान देखते रह गए
जैसे ही कांग्रेसी पुतला लेकर कहचरी चौक के बीच में पहुंचे वैसे ही पुलिस भी आगे बढ़ी। इसी बीच कांग्रेसियों ने बीच चौराहे पर दोनों पुतले को आग के हवाले कर दिया और फिर जमकर नारेबाजी की। पुलिस जवानों ने पुतला छीनने और आग बुझाने की कोशिश की मगर असफल रह गए और पुतला जला दिया गया। इसके बाद पुलिस भी किनारे खड़े होकर देखते रहे।