स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मोस्ट वांटेड आतंकी ने खोले बड़े राज, पाक की मदद से भारत में यूं फैला रहे थे अलकायदा का जाल

Prateek Saini

Publish: Sep 22, 2019 18:46 PM | Updated: Sep 22, 2019 18:46 PM

Jamshedpur

Al Qaeda Terrorist: (Jharkhand News) गिरफ्तार (Terrorists In India) अलकायदा (Al Qaeda) आतंकी (Maulana Arrested) युवाओं को गुमराह कर ट्रेनिंग के लिए पाकिस्तान (Pakistani Terrorists) भेजता था, (ISIS In India) जमशेदपुर (Jamshedpur News) में ज्वाइनिंग (Terrorism In India) सेंटर खोल दिया था और...

(जमशेदपुर,रवि सिन्हा): झारखंड पुलिस (Jharkhand Police) और एटीएस (ATS) की टीम ने रविवार को बड़ी सफलता हासिल की। गुप्त सूचना के आधार पर अलकायदा के मोस्ट वांटेड आतंकवादी मो कलीमुद्दीन को जमशेदपुर के टाटानगर रेलवे स्टेशन से गिरफ्तार किया गया। कलीमुद्दीन की गिरफ्तारी के बाद बड़ा खुलासा हुआ है।


पुलिस के साथ आंख-मिचौली

वर्ष 2016 में आतंकी घटनाओं में संलिप्तता में मामले में कलीमुद्दीन के कुछ साथियों को गिरफ्तार किया गया था और उनसे पूछताछ के बाद ही पिछले तीन सालों से कलीमुद्दीन की तलाश की जा रही थी। गिरफ्तारी से बचने के लिए कलीमुद्दीन मुजाहिरी लगातार अपना ठिकाना बदल रहा था।

 

तिहाड़ जेल में बंद हैं और साथी

गिरफ्तार आतंकी कलीमुद्दीन के सहयोगी महोम्मद अब्दुल रहमान अली खान और हैदर उर्फ मसूद उत्कट अभी दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद है। वहीं अब्दुल समी उर्फ आसन और अहमद मसूद अकरम और राजू तथा नसीम अख्तर और जीशान हैदर भी तिहाड़ जेल में बंद है। पुलिस के अनुसार मोहम्मद कलीमुद्दीन आतंकी संगठन अलकायदा संगठन के संपर्क में रहकर जेहाद और आतंकवादी घटनाओं के लिए युवाओं को प्रेरित करता था। वह युवओं को प्रशिक्षण के लिए बाहर भेजने का काम करता था।

 

1995 से आतंकी गतिविधी से जुड़ा...

मोस्ट वांटेड आतंकी ने खोले बड़े राज, पाक की मदद से भारत में यूं फैला रहे थे अलकायदा का जाल

पत्रकारों को जानकारी देते हुए एटीएस के एडीजी मुरारी लाल मीणा और एसपी ए विजया लक्ष्मी ने बताया कि गिरफ्तार मो कलीमुद्दीन मूल रुप से रांची जिले के बेड़ो थाना के रड़गांव का रहने वाला है। इसने देवबंद से मौलाना की डिग्री हासिल कर रखा है। वर्ष 1995 से यह जमशेदपुर के आजाद नगर मानगो में रह कर आतंकी गतिविधियों से जुड़ गया था।


तीन राज्यों का अलकायदा प्रभारी, भेजता था पाकिस्तान...

मोस्ट वांटेड आतंकी ने खोले बड़े राज, पाक की मदद से भारत में यूं फैला रहे थे अलकायदा का जाल

कलीमुद्दीन ने देश के कई क्षेत्रों के साथ विदेश का भी दौरा किया है। इस दौरान युवाओं को आंतकी ट्रेनिंग देने लगा। कलीमउद्दीन अलकायदा के कुख्यात आतंकी तिहाड़ जेल में बंद अब्दुर्रहमान कटकी गिरोह का सक्रिय सदस्य है। यह अलकायदा संगठन का मुख्य रुप से झारखंड,बिहार व बंगाल का प्रभारी था। जिहाद की मानसिकता रखने वाले लोगों को चिन्हित कर अपने पास बुलवाकर अलकायदा आतंकी संगठन से जोड़ना मुख्य काम था। इसके खिलाफ जमशेदपुर बिष्टुपुर थाना में 25 जनवरी 2016 को मामला दर्ज किया गया था। सऊदी अरब, बांग्लादेश,पाकिस्तान और अफ्रीका जैसे देशों का भ्रमण कर चुका है। इसके द्धारा प्रशिक्षित युवाओं को खास कर पाकिस्तान (Pakistan) भेजने का काम करता था।


पैसा एकत्र कर देता था आतंकियों को पनाह...

मानगो के आजादनगर निवासी और मदरसा संचालक मौलाना कलीमउद्दीन को आतंकवादी निरोधक दस्ते ने अलकायदा का संदिग्ध बताते हुए फरार घोषित किया था। उसके घर में पुलिस ने एटीएस के निर्देश पर उस वक्त इश्तेहार चिपकाया था। एक कॉपी पर मदरसे में मौजूद उसके भाई का हस्ताक्षर भी कराया गया था। मो कलीमउद्दीन पर अलकायदा के लिए राशि एकत्रित करने और अलकायदा के एक संदिग्ध अब्दुल रहमान कटकी को पनाह देने का आरोप है।


जमशेदपुर बना आतंकियों का ज्वाइनिंग सेंटर

मोस्ट वांटेड आतंकी ने खोले बड़े राज, पाक की मदद से भारत में यूं फैला रहे थे अलकायदा का जाल

सूत्रों के अनुसार जमशेदपुर को अलकायदा ने झारखंड का अपना प्रमुख केन्द्र बनाया था और यहां से ही नियुक्ति प्रक्रिया पूरी की जा रही थी। ओड़िशा के अब्दुल रहमान कटकी को अलकायदा के रिक्रूटमेंट सेल का प्रमुख बनाया गया था। पहली गिरफ्तारी अब्दुल रहमान कटकी की हुई। इसके बाद जमशेदपुर के अब्दुल सामी, मसूद अहमद और नसीम को गिरफ्तार किया गया। अलकायदा के संदिग्धों में कलीम से पहले मानगो के जाकिरनगर के मो. अर्शियान, जीशान, अबु सुफियान का सीधे तौर पर नाम आया था।


अभी भी 20 आतंकियों की तलाश

आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) को झारखंड में अलकायदा के 20 आतंकवादियों की तलाश है। एटीएस को इन सभी आतंकवादियों के बारे में जानकारी दो साल पहले मिली थी। अगस्त 2017 से सऊदी अरब से गिरफ्तार आतंकवादी जीशान ने बताया था कि राज्य के 20 युवा उसके संपर्क में हैं। इनमें से 6 रांची के और 8 जमशेदपुर के हैं। जीशान खुद जमशेदपुर का है। दिल्ली में जीशान से पूछताछ के दौरान मिली जानकारी के आधार पर एटीएस ने इन आतंकवादियों के बारे में विस्तृत जानकारी जुटानी शुरू की थी।

झारखंड की ताजा ख़बरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...

यह भी पढ़ें: Video:बच्चा चोर समझकर युवक को पकड़ा, पुलिस छुड़ाने पहुंची तो हुआ पथराव