स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सरकार का दावा, जम्मू कश्मीर में स्थिति बिल्कुल सामान्य

Nitin Bhal

Publish: Aug 13, 2019 18:43 PM | Updated: Aug 13, 2019 18:43 PM

Jammu

Article 370: हिंसा की खबरों को दरकिनार करते हुए जम्मू कश्मीर सरकार के प्रवक्ता ने कहा है कि धारा 370 और 35ए को निष्प्रभावी करने के बाद राज्य में स्थिति बिलकुल सामान्य...

जम्मू (योगेश) . हिंसा की खबरों को दरकिनार करते हुए जम्मू कश्मीर ( jammu kashmir ) सरकार के प्रवक्ता ने कहा है कि नुच्छेद 370 ( Article 370) और 35ए ( Article 35A ) को निष्प्रभावी करने के बाद राज्य में स्थिति बिलकुल सामान्य है। जम्मू-कश्मीर योजना आयोग के प्रधान सचिव और राज्य सरकार के मुख्य प्रवक्ता रोहित कंसल ने स्वतंत्रता दिवस पर होने वाले समारोह को लेकर जानकारी देते हुए कहा कि जम्मू, कश्मीर और लद्दाख के सभी जिलों में स्वतंत्रता दिवस के लिए रिहर्सल चल रही है। कंसल ने कहा कि राज्य में स्थिति बिल्कुल सामान्य है और स्वतंत्र दिवस 15 अगस्त को भव्य तरीके से मनाया जाएगा। उन्होंने कहा कि जम्मू, कश्मीर और लद्दाख के विभिन्न हिस्सों में बकरीद का पर्व शांतिपूर्ण मनाया गया। साथ ही उन्होंने बताया कि जम्मू क्षेत्र लगभग पूरी तरह से प्रतिबंधों से मुक्त है, लेकिन कश्मीर के कुछ हिस्सों में प्रतिबंध जारी हैं।

आपको बता दें कि अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी किए जाने के बाद से जम्मू और कश्मीर में इंटरनेट सेवा, मोबाइल नेटवर्क सेवा बंद कर दी गई थी। जम्मू में मोबाइल नेटवर्क सेवा में पहले ही छूट दी जा चुकी है। लेकिन अभी कश्मीर के कई हिस्सों में प्रतिबंध पूर्व की तरह ही लागू हैं। बकरीद के त्योहार को देखते हुए कश्मीर में जारी प्रतिबंधों में छूट दी गई थी। जम्मू-कश्मीर में लगाए गए प्रतिबंधों पर उन्होंने कहा कि हमने 2008 और 2016 में भी राज्य में गड़बड़ी देखी है। 2016 में एक सप्ताह में 37 मौतें हुई थीं। लेकिन पिछले एक हफ्ते में एक भी दुर्घटना नहीं हुई है। साथ ही कहा कि कम से कम और उचित प्रतिबंध लगाकर हम लोगों की जिंदगी बचाने में सफल रहे हैं।

फर्जी ट्विटर अकाउंट पर लिया संज्ञान

साथ ही घाटी में कई ट्विटर अकाउंट बंद किए जाने पर उन्होंने कहा कि सभी फर्जी ट्विटर अकाउंट पर संज्ञान लिया गया है। कहा कि इनमें वह अकाउंट शामिल हैं जो घाटी की शांति व्यवस्था में खलल पैदा करते हैं। उन्होंने कहा कि इसे कानूनी स्तर पर, प्रक्रियात्मक रूप से और उचित तरीके से निपटाया जा रहा है।