स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

आइंस्टीन को दिया न्यूटन का क्रेडिट! सोशल मीडिया पर ट्रोल हुए पीयूष गोयल

Nitin Bhal

Publish: Sep 12, 2019 22:02 PM | Updated: Sep 12, 2019 22:02 PM

Jammu

Piyush Goyal: रेल और वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल एक बयान देकर देश-दुनिया में चर्चा का विषय बन गए हैं। देश में आई मंदी और 5 ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था बनाने के सवाल पर ...

श्रीनगर. रेल और वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल ( Piyush Goyal ) एक बयान देकर देश-दुनिया में चर्चा का विषय बन गए हैं। देश में आई मंदी और 5 ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था बनाने के सवाल पर पीयूष गोयल ने जो तर्क दिए उससे वे सोशल मीडिया पर मौजूद ट्रोलर्स के निशाने पर आ गए हैं। इससे पहले वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ( Nirmala Sitharaman ) के द्वारा ऑटो सेक्टर में आई मंदी को लेकर दिए बयान के बाद भी मीम्स की बाढ़ आ गई थी। इस बार पीयूष गोयल लोगों के निशाने पर हैं। दरअसल जब ये सवाल उठा कि मौजूदा दर से भारत 5 ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था कैसे बनेगा तो पीयूष गोयल ने सुझाव दिया कि हिसाब-किताब में मत पडि़ए। इस दौरान उन्होंने न्यूटन का क्रेडिट आइंस्टीन को दे डाला। उन्होंने कहा कि आइंस्टीन अगर हिसाब-किताब में पड़ते तो गुरुत्वाकर्षण के सिद्धांत की खोज नहीं कर पाते। हालांकि पीयूष गोयल ने अपने बयान को लेकर सफाई भी जारी की, उन्होंने कहा कि दुख की बात है कि बातचीत के संदर्भ के बजाय किसी एक लाइन को लेकर चर्चा की जा रही है। पीयूष गोयल ने कहा कि आप उस हिसाब-किताब में मत पडि़ए जो टीवी पर देखते हैं कि 5 ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था के लिए देश को 12 फीसदी की रफ़्तार से बढऩा होगा। आज ये 6 फिसदी की रफ़्तार से बढ़ रही है। ऐसे हिसाब-किताब में मत पडि़ए। ऐसे गणित से आइंस्टीन को गुरुत्वाकर्षण के सिद्धांत की खोज करने में मदद नहीं मिली। अगर आप बस बने-बनाए फ़ार्मूलों और अतीत के ज्ञान से आगे बढ़ते तो मुझे नहीं लगता कि दुनिया में इतनी सारी खोज होती।

 

सीतारमन का बयान भी रहा था सुर्खियों में

इससे पहले वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ऑटो सेक्टर में आई मंदी के लिए ओला-ऊबर को जिम्मेदार ठहराया था। इसके लिए वित्त मंत्री को सोशल मीडिया पर तीखी आलोचना का सामना करना पड़ा था। कुछ ऐसा ही रिएक्शन सोशल मीडिया का पीयूष गोयल के लिए भी रहा। दरअसल सरकार ने खुले तौर पर स्वीकार नहीं किया है देश मंदी के दायरे के भीतर खड़ा है, ऐसे में सोशल मीडिया को सरकार की चुटकी लेने का एक मौका मिल गया।