स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Kashmir: हिंसा भडक़ाने की आशंका पर लगाई निषेधाज्ञा

Nitin Bhal

Publish: Sep 20, 2019 22:45 PM | Updated: Sep 20, 2019 22:45 PM

Jammu

Jammu Kashmir: कश्मीर में जुम्मे की नमाज के दौरान हिंसा भडक़ाए जाने की आशंका को देखते प्रशासन ने शुक्रवार को डाउन-टाउन समेत कई संवेदनशील इलाकों में निषेधाज्ञा लगा दी...

श्रीनगर. कश्मीर में जुम्मे की नमाज के दौरान हिंसा भडक़ाए जाने की आशंका को देखते प्रशासन ने शुक्रवार को डाउन-टाउन समेत कई संवेदनशील इलाकों में निषेधाज्ञा लगा दी। कश्मीर में पटरी पर लौट रही सामान्य जिंदगी में खलल डालने के लिए आतंकियों और अलगाववादी तत्वों ने नमाज के दौरान कई जगह राष्ट्रविरोधी प्रदर्शनों की आड़ में हिंसा फैलाने की साजिश रची हुई थी। खुफिया एजेंसियों की ओर से जारी अलर्ट का संज्ञान लेते हुए प्रशासन ने डाउन-टाउन के साथ अनंतनाग, कुपवाड़ा, गांदरबल, बिजबिहाड़ा, हंदवाड़ा और सोपोर में एहतियातन प्रशासनिक पाबंदियों को फिर से लागू कर दिया। कई इलाकों जहां प्रशासनिक पाबंदियां नहीं थी, वहां भी आने-जाने के कई रास्तों को बंद करते हुए बड़ी संख्या में पुलिस और अर्धसैनिक बलों के जवानों को तैनात कर दिया गया। हालांकि श्रीनगर के राजबाग, डलगेट, जवाहर नगर, जहांगीर चौक समेत सिविल लाइंस इलाकों में प्रशासनिक पाबंदियां नहीं थी, लेकिन डाउन-टाउन में पाबंदियों का असर इन इलाकों में भी नजर आया। सिर्फ श्रीनगर में ही नहीं बारामुला, सोपोर, कुपवाड़ा, अनंतनाग, कुलगाम, शोपियां, बडगाम में भी बीते दिनों की अपेक्षा सडक़ों पर आम लोगों और वाहनों की आवाजाही कम रही। स्कूल भी बंद रहे, लेकिन सरकारी कार्यालय और बैंक खुले रहे।

जुलूस निकालने का प्रयास नाकाम

Jammu Kashmir: बॉण्ड बनेगा रिहाई की चाबी, साइन करो और घर जाओ

दोपहर को वादी के सभी इलाकों में नमाज के लिए लोग अपने गली-मुहल्लों की मस्जिदों में जमा हुए। हैदरपोरा और बटमालू में नमाज के बाद कुछ लोगों ने नारेबाजी करते हुए जुलूस निकालने का भी प्रयास किया, लेकिन सुरक्षाकर्मियों ने उन्हें नाकाम बना दिया। हालांकि पुलिस ने ऐसी किसी भी घटना से इनकार किया है।

एहतियातन लगाई पाबंदियां

kashmir.jpeg

पुलिस नियंत्रण कक्ष में मौजूद एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि श्रीनगर के कुछ हिस्सों के अलावा घाटी के अन्य संवेदनशील इलाकों में एहतियात के तौर पर निषेधाज्ञा लगानी पड़ी। दोपहर बाद तक स्थिति तनाव के बावजूद पूरी तरह शांत रही। जुम्मा की नमाज भी शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न हो गई।