स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सेब खरीद-फरोख्त के लिए बनाए नौ सेफ जोन

Nitin Bhal

Publish: Oct 19, 2019 18:45 PM | Updated: Oct 19, 2019 18:45 PM

Jammu

कश्मीर घाटी में आतंकियों द्वारा ट्रक चालकों और व्यापारियों को निशाना बनाए जाने की वारदात के बाद चौकन्ने हुए राज्य प्रशासन ने शोपियां में सेब निर्यात और...

श्रीनगर. कश्मीर घाटी में आतंकियों द्वारा ट्रक चालकों और व्यापारियों को निशाना बनाए जाने की वारदात के बाद चौकन्ने हुए राज्य प्रशासन ने शोपियां में सेब निर्यात और खरीद के लिए नौ सुरक्षित जोन चिन्हित किए हैं। ये सभी जोन जिला मुख्यालय को श्रीनगर और हाईवे से जोडऩे वाली मुख्य सडक़ या सुरक्षाबलों के शिविरों के पास हैं। अब आतंकी यदि कोई नापाक हरकत करेंगे तो उन्हें परिणाम भी भुगतना पड़ेगा। जिला प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि ये सभी क्षेत्र शोपियां जिले में मुख्य सडक़ों या पुलिस, सीआरपीएफ व सेना के शिविरों के पास हैं। इन इलाकों में चौबीस घंटे सुरक्षाबलों की गश्त होगी। ट्रक चालकों को इन जगहों पर अपने वाहन लगाने के लिए कहा गया है। सेब उत्पादकों और व्यापारियों से कहा गया है कि वह अपनी फसल को लेकर सुरक्षित क्षेत्र में पहुंचे। वहीं पर सेब खरीदने के लिए व्यापारी और निर्यात के लिए ट्रक उपलब्ध रहेंगे। वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि मुगल रोड पर पीर की गली के पास पोशाना इलाके में भी 600 ट्रकों को सुरक्षा कारणों और सडक़ पर यातायात सुचारू बनाने के लिए रोका गया है। कुछ सूचनाएं मिली थीं कि आतंकी इस सडक़ से गुजरने वाले ट्रकों को निशाना बना सकते हैं। मुगल रोड और उससे सटे इलाकों में सुरक्षा बढ़ाने के साथ ही ट्रकों को कश्मीर के लिए छोड़ा जा रहा है।

भीतरी इलाकों में जाने से बचें: डीजीपी

सेब खरीद-फरोख्त के लिए बनाए नौ सेफ जोन

राज्य पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह ने आइजी कश्मीर एसपी पाणि के साथ शोपियां का दौरा कर हालात का जायजा लिया। उन्होंने जिला पुलिस और शोपियां में तैनात सुरक्षाबलों के अधिकारियों के साथ बैठक कर सेब व्यापारियों और उत्पादकों की सुरक्षा को यकीनी बनाने के निर्देश दिए। दिलबाग सिंह ने कहा कि वादी से बाहर की मंडियों में निर्यात किए जाने वाले सेब की लदाई के लिए सुरक्षित जगहों को चिन्हित किया जाए। इन जगहों पर फलोत्पादक छोटे मालवाहक वाहनों में सेब लेकर आएं और ट्रकों में भराई कराएं। अन्य राज्यों के ट्रक चालक व व्यापारी भीतरी इलाकों में जाने से बचें।