स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

नेहड़ व बाड़मेर की सीमा में टिड्डी का पड़ाव

Dharmendra Ramawat

Publish: Jan 22, 2020 10:22 AM | Updated: Jan 22, 2020 10:22 AM

Jalore

www.patrika.com/rajasthan-news

वेडिय़ा. जिले सहित बाड़मेर सरहद में पिछले डेढ़ माह के भीतर चौथी बार टिड्डी दल ने हमला कर किसानों की नींद उड़ा कर रख दी है। शनिवार शाम गुजरात सीमा से टिड्डी दल ने रणखार होते हुए कुकडिय़ा में गांव में पड़ाव डाला था, जिसका मंगलवार तक भी नेहड़ सहित बाड़मेर जिले की सरहद में पड़ाव जारी रहा। मंगलवार को चितलवाना उपखण्ड के डूंगरी, वेडिय़ा व आरवा में टिड्डी दल का झुण्ड दिखने के बाद प्रशासनिक अधिकारियों व किसानों ने ट्रैक्टरों व दलकम वाहनों से स्प्रे कर टिड्डियों को नष्ट करने का प्रयास जारी रखा। क्षेत्र के दर्जनों गांवों में किसानों की बड़ी मात्रा में फसलें टिड्डी ने चट कर दी है। वन एवं पर्यावरण मंत्री सुखराम बिश्नोई के नेतृत्व में प्रशासनिक टीम किसानों की मदद से कीटनाशक दवाओं से स्प्रे भी कर रही है।
चौथी बार किया हमला
बता दें कि पिछले डेढ़ माह में चौथी बार टिड्डी ने हमला किया है। टिड्डी का पहला हमला 9 जनवरी को बाड़मेर जिले से हुआ था। वहीं दूसरा हमला 14 दिसंबर को बाड़मेर जिले से वेडिय़ा गांव में, वहीं तीसरा हमला 24 दिसंबर की रात गुजरात सीमा से टिड्डी ने सांचौर में प्रवेश कर किया था। इसके बाद अब फिर से चौथी बार शनिवार को गुजरात सीमा से रणखार होते हुए टिड्डी ने क्षेत्र में प्रवेश किया। जिससे जिले की सीमा पर मंगलवार को बाड़मेर में भी फसलें तबाह हो गई है।
सीमा पर सटे गांवों का लिया जायजा
इधर, चौहटन विधायक पदमाराम ने जालोर व बाड़मेर सीमा से सटे गावों का मंगलवार को जायजा लेकर सरकार की ओर से नियंत्रण के लिए किसानों से चर्चा की। किसानों ने बताया कि टिड्डी दल ने एक बार फिर किसानों की बची खुची फसल भी चट कर डाली। बाड़मेर के पनोरिया, फागलिया, बोली, गोड़ा ओगाला से हुए जालोर में आरवा, खामराई, पीथाबेरी, डूंगरी व जालबेरी में टिड्डी पहुंच चुकी है। मंगलवार को डूंगरी, आरवा व कोलियों की बेरी, केआर बंधा कुआं, माधोपुरा व टांपी में टिड्डी ने पड़ाव डाल रखा है। इस दौरान टिड्डी नियंत्रण दल के अधिकारी भी मौके पर मौजूद रहे। टिड्डी के खात्मे के लिए नियंत्रण दल की ओर से जालोर से 9 व बाड़मेर से 3 ट्रैक्टरों के अलावा किसानों के भी कई ट्रैक्टर स्प्रे के लिए काम में लिए जा रहे हैं।

[MORE_ADVERTISE1]