स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बैंकों व एटीएम पर दिव्यांगों की राह नहीं आसान

Khushal Singh Bhati

Publish: Jan 21, 2020 10:43 AM | Updated: Jan 21, 2020 10:43 AM

Jalore

- कस्बे में स्थित विभिन्न बैंकों में दिव्यांगों व वरिष्ठ नागरिकों की सुविधा के लिए नहीं बने हुए है रैम्प

आहोर. दिव्यांगों व वरिष्ठ नागरिकों को किसी भी कार्यालय में आने-जाने के दौरान किसी तरह की परेशानी का सामना नहीं करना पड़े इसके लिए सभी कार्यालयों में रैम्प की अनिवार्यता लागू की गई है। इसके तहत प्रत्येक बैंक और एटीएम में भी रैंप अनिवार्य किया है, लेकिन कस्बे समेत क्षेत्र में अब भी कई राष्ट्रीयकृत बैंकों और एटीएम में रैम्प बने हुए नहीं हैं। ऐसे में यहां आने-जाने पर दिव्यांगों व वरिष्ठ नागरिकों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ता है।
यह आती परेशानी
बैंकों और एटीएम में रैम्प नहीं होने के कारण दिव्यांगों और वरिष्ठ नागरिकों को काफी परेशानी उठानी पड़ती है। रैम्प नहीं होने से उन्हें कई सीढिय़ां चढ़कर बैंकों और एटीएम में आना-जाना पड़ता है। कई दिव्यांगों और वरिष्ठ नागरिकों को तो कोई साथ नहीं होने पर किसी अनजान का सहारा लेकर सीढिय़ां चढऩी पड़ती है। जो उनकी सुरक्षा पर भी सवालिया निशान खड़ा करता है।
अधिकांश बैंक व एटीएम पर रैंप का अभाव
उपखंड मुख्यालय समेत क्षेत्र के विभिन्न गांवों में निजी एवं सरकारी बैंक व एटीएम हैं। इनमें से अधिकांश बैंक शाखाओं और एटीएम में रैंप नहीं है। आलम यह है कि उपखंड मुख्यालय पर स्थित सभी बैंकों व एटीएम में दिव्यांगों व वरिष्ठ नागरिकों की सुविधा के लिए रैम्प का अभाव बना हुआ है। जिससे उन्हें आने-जाने में बेहद परेशानी उठानी पड़ती है। लेकिन इस ओर बैंक प्रशासन द्वारा कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है।
दे रखे है निर्देश
नियमानुसार सभी बैंकों और एटीएम में रैम्प की अनियार्यता लागू की गई है। ताकि दिव्यांगों और वरिष्ठ नागरिकों को बैकिंग कार्य के लिए आने-जाने में किसी तरह की परेशानी का सामना नहीं करना पड़े। इंडियन बैंक एसोसिएशन की ओर से बैंकों को इस संबंध में दिशा-निर्देश भी जारी कर रखे हैं। इसके बावजूद इसकी पालना का नितांत अभाव है। जिसका खामियाजा दिव्यांगों एवं वरिष्ठ नागरिकों को परेशानी झेलकर उठाना पड़ रहा है।

[MORE_ADVERTISE1]