स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

शिक्षकों के सम्मेलन में यह हुआ खास निर्णय

Khushal Singh Bhati

Publish: Dec 08, 2019 11:38 AM | Updated: Dec 08, 2019 11:38 AM

Jalore

- शैक्षिक सम्मेलन में शिक्षा के स्तर में सुधार पर हुई चर्चा

सांचौर. राजस्थान शिक्षक संघ प्रगतिशील का 59 वे प्रदेश शैक्षिक सम्मेलन का समापन राउमावि सांचौर में प्राचार्य राजकीय महाविद्यालय रानीवाड़ा हिमांशु पंड्या के मुख्य आतिथ्य, प्रदेश अध्यक्ष शिक्षक संघ प्रगतिशील बना राम चौधरी, नेता प्रतिपक्ष नगर पालिका सांचौर बीरबल पुनिया, पुलिस उप अधीक्षक अनिल सारण की उपस्थिति में हुआ। संगठन के प्रदेश मुख्यमंत्री पूनमचंद विश्नोई ने कहा कि समापन समारोह से पूर्व सवेरे 9 बजे प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक आयोजित हुई, जिसमें सम्मेलन में प्राप्त प्रस्तावों को अंतिम रूप दिया एवं शिक्षकों की विभिन्न समस्याओं के निराकरण के लिए आंदोलन का निर्णय लिया गया। सम्मेलन के द्वितीय चरण में खुला अधिवेशन प्रदेश अध्यक्ष की अध्यक्षता में आयोजित हुआ, जिसमें विभिन्न जिलों के जिला अध्यक्षों द्वारा अपने-अपने जिलों की सदस्यता अभियान, शिक्षकों की समस्याओं के बारे में विस्तार से अपनी बातें रखी। समापन समारोह को संबोधित करते हुए प्राचार्य हिमांशु गुप्ता ने कहा कि आज हमें देश को बचाना होगा, देश में सांप्रदायिक शक्तियों से लडऩा होगा। समारोह में पुलिस उप अधीक्षक अनिल सारण ने कहा कि हमें विद्यालयों में अभाव में प्रभाव दिखाकर ग्रामीण क्षेत्रों में गरीब किसानों, मजदूरों के बच्चों को आगे बढ़ाने का संकल्प लेना होगा। प्रदेश अध्यक्ष बन्ना राम चौधरी ने आयोजन के धन्यवाद ज्ञापित किया और उन्होंने कहा कि संगठन आगामी दिनों में एनपीएस को लेकर आंदोलन को मजबूती प्रदान करनी होगी। संगठन के मुख्यमंत्री पूनमचंद विश्नोई ने अपने उद्बोधन में सरकार से महंगाई भत्ते की घोषणा करे की मांग की। जालौर जिला अध्यक्ष किशन लाल सारण ने भी सम्मेलन को संबोधित किया। समारोह में शिक्षाविद् जोगाराम सुथार ने कर्मचारियों के आंदोलन का इतिहास तथा संघर्ष को तेज करने का आह्वान किया। सम्मेलन के संबंधित करते हुए प्रदेश महामंत्री महादेवा राम देवासी ने अपने उद्बोधन में सभी शिक्षकों को संगठित होकर संघर्ष करने का आह्वान किया।
समारोह में नरिंगा राम चौधरी मक्का राम चौधरी, सुरजन राम साहू, जयकरण खिलेरी, जोगाराम सुथार, बाबूलाल कड़वासरा, रामनिवास राव, बाबूलाल सियाग, राजूराम बिश्नोई, प्रकाश नारायण माली, बालकृष्ण शर्मा, लाडू राम खीचड़, महादेवा राम देवासी, हरिराम चौधरी, जवारा राम मेघवाल, हीराराम मेघवाल, राणाराम सारण, राजूराम बिश्नोई, देवराज चौधरी ,जगदीश मांजू, भाखरा राम मांजू, पन्ना राम गोदारा ,भगाराम चौधरी, बाबूलाल राणा, राजूराम कुराड़ा, सुनील सारण, राजेंद्र साह, बुद्धा राम गोदारा, सरवन गोदारा, ओम प्रकाश, भगराज सारण सहित कई शिक्षक मौजूद रहे।

[MORE_ADVERTISE1]