स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अरंडी पर सेमी लूपर का प्रकोप

Khushal Singh Bhati

Publish: Nov 19, 2019 10:53 AM | Updated: Nov 19, 2019 10:53 AM

Jalore

किसानों की बढ़ी चिंता, लट कर रही है फसल को चट

भीनमाल. पिछले 10-15 दिनों से गर्मी व आसमान में बादल छाए रहने का खामियाजा किसानों को भुगतना पड़ रहा है। अरण्डी की फसल के अनुकुल मौसम नहीं रहने से फसल में अर्ध कुण्डलक कीट (सेमी लूपर) कीट का प्रकोप फैल रहा है। यह लट अरण्डी के पत्तों पर बैठकर पत्तों का चलनी कर रहा है। ऐसे में किसानों को चिंता में डाल दिया है। किसानों का कहना है कि अरण्डी की फसल में लट का प्रकोप दिनों-दिन बढ़ रहा है। यही स्थिति रही तो आने वाले कुछ ही दिनों में फसल पूरी तरह से चट हो जाएगी। सुंधामाता क्षेत्र के कागमाला, चितरोड़ी, चाण्डपुरा, राजपुरा, शिवगढ़, भागलभीम व आहोर तहसील के हरजी, थवला, गुड़ा बालोतान गांवों में अरण्डी की फसल में सेमीलूपर का प्रकोप फैल रहा है। किसानों का कहना है कि पहले ओलावृष्टि व बारिश होने से अरण्डी की फसल में नुकसान हुआ है। रही-सही कसर सेमीलूपर पूरी कर रहा है। कृषि विस्तार विभाग के अधिकारियों का कहना है मौसम में आए बदलाव से अरण्डी की फसल में कीट का प्रकोप हो रहा है। बारिश होने व गर्मी पडऩे की वजह से सेमीलूपर पनप जाता है।
इस प्रकार की सेमीलूपर
यह कीट (लट) लगभग 3.5 से 5.0 सेन्टीमीटर लंबी होती है, जो छोटी अवस्था में हरे रंग की व बड़ी अवस्था में सामान्यत: काले भूरे रंग की हो जाती है। यह कीट मादा पत्तियों के दोनों सतहो पर अंडे देती है। यह लट रेंगती हुई लूप बनाकर चलती है। फसल की पत्तियों को चटकर फसल को कमजोर कर देेती है। सामान्यत: इस कीट का प्रकोप वर्षा काल अगस्त से सितंबर तक होता हैं, लेकिन मौसम में आए बदलाव से नवंबर माह में प्रकोप है। यह लट 11 से 16 दिनों तक पत्तियां खाने के बाद प्यूपा में बदल जाती है।
40 हजार 560 हैक्टेयर में अरण्डी
जिलेभर में किसान अरण्डी को नकदी फसल मानते है। ऐसे में कई किसान खेतों में अरण्डी की बुवाई करते है। जिलेभर में इस सीजन में 40 हजार 560 हैक्टयर में अरण्डी फसल की बुवाई हो रखी है। दाम अच्छे मिलने से अरण्डी किसानों के पसंद की फसल है।
रोकथाम करे
किसान प्रति हैक्टयर एक लीटर क्यूनॉलफॉस 25 ईसी करीब 700-800 लीटर पानी में घोलकर अरण्डी की फसल में छिड़काव करें। मामूली प्रकोप रहने पर 15 दिन में दुबारा करने पर कीट का प्रकोप समाप्त हो जाता है। किसान कृषि विस्तार विभाग के अधिकारियों व लाइसेंसधारी दुकानदारों से जानकारी ले सकते है।
डॉ. आरबी सिंह, उप निदेशक, कृषि विस्तार विभाग-जालोर

[MORE_ADVERTISE1]