स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

शिक्षकों की गबन राशि पुनर्भरण के हुए आदेश, पर बंटवारे में आ रही यह समस्या

Dharmendra Ramawat

Publish: Jul 20, 2019 10:04 AM | Updated: Jul 20, 2019 10:04 AM

Jalore

www.patrika.com/rajasthan-news

चितलवाना. पंचायत समिति क्षेत्र के शिक्षकों के जीपीएफ व एसआई गबन मामले के पांच साल बाद भी अधिकारी यह तक पता नहीं लगाए पाए हैं कि किस शिक्षक की कितनी राशि का गबन हुआ है। यह खुलासा शिक्षा मंत्री की ओर से पुनर्भरण आदेश जारी करने के बाद सीबीईओ कार्यालय में शिक्षक संघ प्रगतिशील की वार्ता में हुआ। सीबीईओ कार्यालय में वर्ष 2012-13 से शिक्षकों के जीपीएफ व एसआई कटौती की राशि के गबन के पांच साल बाद भी अधिकारियों के पास इसके आंकड़े ही नहीं है। निदेशालय बीकानेर की जांच कमेटी ने सामूहिक तौर पर शिक्षकों की राशि के गबन के आकड़े जारी किए थे, लेकिन इसके बाद में प्रति शिक्षक की जानकारी नहीं अधिकारी अब तक नहीं जुटा पाए हैं।
वार्ता के बाद हकीकत आई सामने
सीबीईओ कार्यालय में शिक्षकों के गबन प्रकरण को लेकर शिक्षक संघ के प्रतिनिधि मंडल ने शिक्षा मंत्री से मुलाकात की थी। जिसके बाद शिक्षा मंत्री ने शिक्षकों की गबन राशि का पुनर्भरण करने के आदेश जारी किए। बाद में निदेशालय की ओर से सूचना मांगने पर शिक्षक संघ प्रगतिशील व अधिकारियों के बीच वार्ता हुई। तब यह हकीकत सामने आई कि अधिकारियों के पास प्रत्येक शिक्षक के गबन के अलग-अलग आकड़े तक नहीं हैं।
कमेटी की जांच में इतनी राशि का गबन
पंचायत समिति के शिक्षकों के वर्ष 2012-13 में जीपीएफ व एसआई कटौती के गबन को लेकर निदेशालय बीकानेर से जांच कमेटी यहां पहुंची थी। इस दौरान कमेटी ने जीपीएफ व एसआई में जमा नहीं होने वाली 68 लाख 42 हजार 291 की राशि का गबन माना था, लेकिन किस शिक्षक की कितनी राशि का गबन हुआ यह जानकारी सीबीईओ कार्यालय में नहीं होने से इस राशि का बंटवारा करना टेढ़ी खीर बना हुआ है।
मनोहरलाल के खाते में डाले 67 लाख
पंचायत समिति के सीबीईओ कार्यालय में संविदा पर लगे गबन के मुख्य आरोपी मनोहरलाल के खाता संख्या 51105698202 में 67 लाख 74 हजार २५२ रुपए जमा हुए थे। शिक्षकों के जीपीएफ व एसआई में जमा नहीं करवाकर यह राशि उसने अपने ही खाते में जमा करवा दी थी।
निदेशक ने मांगा ब्यौरा
निदेशक प्रारम्भिक शिक्षा विभाग एवं पंचायतीराज बीकानेर ने सीबीईओ चितलवाना के शिक्षकों की गबन की राशि का माहवार व कर्मचारीवार जितनी वास्तविक राशि का भुगतान होना था उसका प्रमाणित विवरण तैयार कर बजट प्रावधान के प्रस्ताव अग्रेषित करने के निर्देश जारी किए हैं।
वार्ता में अधिकारी नहीं दे पाए जवाब
पंचायत समिति के सीबीईओ कार्यालय में शिक्षकों के गबन प्रकरण को लेकर राजस्थान शिक्षक संघ प्रगतिशील की ओर से शिक्षा अधिकारियों के साथ वार्ता की गई। जिसमें अधिकारी संतोषप्रद जवाब नहीं दे पाए। संघ के ब्लॉक अध्यक्ष रामनिवास साऊ ने बताया कि मंत्री के आदेश पर निदेशालय बीकानरे ने सीबीईओ कार्यालय से हर शिक्षक के गबन के आकड़े उपलब्ध कराने की रिपोर्ट मांगी थी, लेकिन यह आंकड़ा उनके पास नहीं होने से शिक्षक नेताओं ने विरोध जताया। इस मौके जिलाध्यक्ष किशनलाल सारण, मंत्री पन्नालाल गोदारा, कोषाध्यक्ष धीमाराम खिलेरी, छोगाराम सारण, मालाराम चौधरी, बाबुलाल पंवार, मोहनलाल साऊ, घमाराम सारण, एसीबीईओ मंगलाराम खोखर, आरपी भाखराराम राणा व सीडीपीओ शैतानसिंह मौजूद थे।
एक बार भी नहीं मांगी सूचना
सीबीईओ कार्यालय के अधिकारियों की ओर से शिक्षकों के जीपीएफ व एसआई की कटौती को लेकर राशि जमा नहीं होने के बाद से लेकर अब तक एक बार भी जीपीएफ कार्यालय को पत्र जारी कर सूचना नहीं मांगी गई। इसको लेकर भी शिक्षकों ने नाराजगी जताई है।
इनका कहना...
शिक्षकों जीपीएफ व एसआई राशि के गबन प्रकरण में शिक्षा मंत्री के आदेश के बाद सीबीईओ कार्यालय में वार्ता हुई थी। जिसमें किस शिक्षक की कितनी राशि का गबन हुआ, इस बारे में अधिकारी जवाब नहीं दे पाए।
- किशनलाल सारण, जिलाध्यक्ष, शिक्षक संघ, जालोर
गबन प्रकरण में जांच कमेटी ने सभी शिक्षकों का सम्मिलित आंकड़ा दिया था, लेकिन प्रत्येक शिक्षक के गबन का आकड़ा नहीं है। तुरन्त ही लेखा विशेषज्ञ से आंकड़े तैयार करवाए जाएंगे।
- मंगलाराम खोखर, एसीबीईओ, चितलवाना