स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सावों की सीजन में बाजार गुलजार, खरीदारों की भीड़

Khushal Singh Bhati

Publish: Nov 19, 2019 11:55 AM | Updated: Nov 19, 2019 11:55 AM

Jalore

कस्बे समेत क्षेत्र में इन दिनों सावों की धूम मची हुई है। पिछले कुछ दिनों से जारी सावों की धमचक के चलते कस्बे का बाजार भी गुलजार बना हुआ है।

आहोर. कस्बे समेत क्षेत्र में इन दिनों सावों की धूम मची हुई है। पिछले कुछ दिनों से जारी सावों की धमचक के चलते कस्बे का बाजार भी गुलजार बना हुआ है। लोग विवाह कार्यक्रमों में व्यस्त है। विवाह आयोजन के चलते लोग प्रतिदिन बाजार में पहुंचकर विभिन्न वस्तुओं की खरीददारी कर रहे है। दुकानदार भी काफी उत्साहित नजर आ रहे हैं।
कार्तिक पूर्णिमा के बाद से विवाह समेत अन्य धार्मिक कार्यक्रमों का आगाज हो गया है। जिसके चलते इन दिनोंं विवाह समेत अन्य धार्मिक आयोजनों की धूम मची हुई है। जहां एक तरफ कस्बे समेत क्षेत्रभर में सावों की धमचक मची हुई है वहीं दूसरी ओर मंदिरों की प्रतिष्ठा, प्रतिष्ठान शुभारंभ समेत अन्य धार्मिक आयोजन भी जोरों पर हो रहे है। जिसके चलते बाजार की रौनक भी लौट आई है। इन दिनों कस्बे समेत क्षेत्रभर में बड़ी संख्या में विवाह कार्यक्रम समेत अन्य धार्मिक आयोजन धूमधाम से आयोजित हो रहे है। जिसके चलते कई वर-वधू के जोड़े परिणय सूत्र में बंध रहे है। आगामी १९, २०, २१, २२, २३, २४, २८ व ३० नवम्बर को कई वर-वधू के जोड़े परिणय सूत्र में बंधेंगे। वहीं आगामी दिसम्बर माह में भी कई सावों की धूम रहेगी। बाजार मेंं पिछले कई दिनों से बिकवाली जोरों पर होने के कारण दुकानदारोंं में खुशी व्याप्त है। बाजार में कपड़ों, बर्तनों, मिठाई, ज्वैलरी, कटलैरी, रेडीमेट, किराणा, इलेक्ट्रॉनिक, स्टूडियो समेत विभिन्न दुकानों पर लोगों की भीड़ देखी जा रही है।
हर कोई बुकिंग में व्यस्त
एडवांस बुकिंग नहीं करवाने वाले लोगथोड़ी तकलीफ उठा रहे हैं। इन दिनों कस्बे के अधिकांश हलवाई, बैंड बाजे, पंडित, ब्यूटी पार्लर, घोड़ी वाले, फोटोग्राफर, डेकोरेशन वाले सभी बुक हैं। जिसके चलते वे इन बुकिंग में व्यस्त रहेंगे।उनके पास अगली बुकिंग के लिए शायद ही समय हो।
पंडितों को कार्य अनेक
सावों में पंडित विशेषकर बुक किए गए है। शादी व विवाह संस्कार कराने के अतिरिक्त शादियों के दौरान पंडितों को विवाह के अतिरिक्त गणपति पूजन, माताजी पूजन, एकादशी उद्यापन व प्रदोष उद्यापन जैसे कार्य भी कराने होते हंै। पंडित लगन लिखवाने के साथ ही बुक कर लिए गए हैं।

[MORE_ADVERTISE1]