स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

फसल ऋण माफी योजना में जांच शुरू, रिकॉर्ड तलब

Jitesh kumar Rawal

Publish: Dec 08, 2019 16:13 PM | Updated: Dec 08, 2019 16:24 PM

Jalore

www.patrika.com/rajasthan-news

सभी व्यवस्थापकों को नोटिस जारी किए , जांच के लिए व्यवस्थापकों को किया पाबंद


जालोर. राजस्थान फसली ऋण योजना में नए सिरे से जांच की जाएगी। इसके लिए ब्लॉक स्तर पर कैम्प लगाए जाएंगे। जांच के लिए रिकॉर्ड तलब किया है। सहकारी समिति के व्यवस्थापकों को भी जांच के लिए पाबंद किया गया है।
जालोर सेंट्रल को-ऑपरेटिव बैंक की सायला शाखा ने इस सम्बंध में सभी व्यवस्थापकों को नोटिस जारी किए हैं। इसमें बताया है कि ऋण माफी योजना में घपले का संदेश जा रहा है। जांच कराने के लिए व्यवस्थापकों को निर्धारित तिथि पर रिकॉर्ड लेकर आने के लिए पाबंद किया है। उल्लेखनीय है कि राजस्थान पत्रिका ने फसली ऋण माफी योजना में घोटाले का अंदेशा जताते हुए सिलसिलेवार समाचार प्रकाशित किए थे। इसके बाद सहकारी समितियां में नए सिरे से जांच शुरू की गई है।


इस तरह रहेगा कार्यक्रम
निर्धारित कार्यक्रम के तहत शनिवार को सायला शाखा के लिए शिविर लगाया गया। इसके बाद 9 दिसम्बर को आसाणा, 10 को चौराऊ, 12 को ऐलाना, 16 को बालवाड़ा व 17 दिसम्बर को केशवणा शाखा के व्यवस्थापकों को रिकॉर्ड के साथ बुलाया गया है।


अनकामंड क्षेत्र के किसानों का धरना जारी
चितलवाना . नर्मदा नहर से सिंचाईके लिए अनकमांड जमीन को कमांड क्षेत्र में जोडऩे की मांग को लेकर मेघावा में चल रहा किसानों का धरना शनिवार को भी जारी रहा। किसानों ने बताया कि नर्मदा मुख्य नहर में किसानों की ओर से बेशकीमती जमीन देने के बावजूद विभाग की ओर से नहरी क्षेत्र किसानों को पानी नहीं दिया जा रहा है। ऐसे में किसानों को सिंचाई से वंचित रहना पड़ रहा है। इसको लेकर मेघावा, वीरावा, मणोर, अगड़ावा व कुण्डकी के किसानों का धरना कमांड क्षेत्र में जोडऩे की मांग को लेकर जारी रहा। किसानों ने इस दौरान मुख्यमंत्री के नाम एसडीएम को ज्ञापन देकर अनकमांड जमीन को कमांड क्षेत्र में जोडऩे की मांग की। वहीं मांग नहीं मानने तक धरना जारी रखने की मांग की। इस मौके पूर्व सरपंच ठाकराराम गोरा, बुधाराम खिचड़, सुरजनराम लोमरोड़, जालाराम, तेजाराम, मालाराम व मोहनलाल सहित कई लोग धरने पर मौजूद थे।

[MORE_ADVERTISE1]