स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

जवाई नदी में अवैध खनन करने वालों पर यह गिरी बड़ी गाज...जानिये

Khushal Singh Bhati

Publish: Dec 11, 2019 10:28 AM | Updated: Dec 11, 2019 10:28 AM

Jalore


- पचानवा क्षेत्र में अवैध खनन पर चारों ट्रेक्टर मालिकों से वसूली जाएगी पेनल्टी साथ ही नदी के बहाव क्षेत्र में की गई खुदाई का आकलन कर बनाई गई पेनल्टी


- पचानवा क्षेत्र में अवैध खनन पर चारों ट्रेक्टर मालिकों से वसूली जाएगी पेनल्टी साथ ही नदी के बहाव क्षेत्र में की गई खुदाई का आकलन कर बनाई गई पेनल्टी जालोर. उम्मेदपुर में बजरी के अवैध खनन पर कार्रवाई करने गई खनिज विभाग की टीम को घेरने के साथ चार ट्रेक्टर छुड़ाने के मामले में सोमवार को विभाग की ओर आहोर थाने में प्रकरण दर्ज करवाने के बाद अब अवैध खनन की गणना के साथ पेनल्टी बनाई गई है। विभाग की ओर से मामले में खननकर्ताओं के विरुद्ध 9 लाख 3 हजार 250 रुपए की कुल पेनल्टी बनाई गई है। जो चार ट्रेक्टर मालिकों को भुगतनी है। मामले में सोमवार को ही दो ट्र्रेक्टर मालिकों इंद्रसिंह और डूंगरसिंह राजपूत की पहचान हो गई थी, जबकि दो ट्रेक्टर के नंबर के आधार पर प्रकरण दर्ज करवाया गया था। इन नंबरों के आधार पर इन ट्रेक्टरों के मालिकों की जानकारी जुटाकर अग्रिम कार्रवाई की जाएगी।
इस तरह से लगाई पेनल्टी
विभागीय जानकारी के अनुसार मामले में कंपाउंड और खनिज की दस गुणा राशि समेत 26 हजार 750 रुपए और कम्पाउंड राशि एनजीटी के 1 लाख रुपए जुर्माने के साथ प्रति ट्रेक्टर चालक कुल 1 लाख 26 हजार 750 रुपए की पेनल्टी लगाई गई है। इस तरह से अवैध खनन के बद चार ट्रेक्टरों में बजरी के परिवहन पर कुल 5 लाख 7 हजार रुपए का जुर्माना लगाया गया है। जबकि नदी के बहाव क्षेत्र में मनमर्जी से अवैध खनन करने पर संबंधित क्षेत्र की खुदाई का आंकलन भी किया गया है। विभागीय जानकारी के अनुसार इस क्षेत्र में 450 घन मीटर क्षेत्र में कुल 1080 टन बजरी का अवैध खनन किया गया। इसकी पेनल्टी 3 लाख 98 हजार रुपए निकाली गई है। यह पेनल्टी भी इन खननकर्ताओं से ही वसूली जाएगी।
पेनल्टी नियमों में संशोधन के बाद बड़ी कार्रवाई
बजरी के अवैध खनन पर पेनल्टी नियमों में बदलाव के बाद विभाग की ओर से यह पहली बड़ी कार्रवाई है। इससे पहले भी विभाग की ओर से कार्रवाइयां की गई है, वे पुराने नियमों के तहत ही थी। उम्मेदपुर क्षेत्र के पास ही एनएच निर्माण करने वाली एजेंसी द्वारा बजरी के स्टॉक और खनन पर 12 लाख रुपए की पेनल्टी विभाग की ओर से वसूली गई थी। हालांकि उस समय नए नियम शर्तें प्रभावी नहीं थे।
इतना बदलाव आया अब
बजरी के अवैध खनन पर ट्रेक्टर पर पूर्व में 26 हजार 750 रुपए की पेनल्टी का प्रावधान था। लेकिन अब नए आदेशों के तहत एक ट्रेक्टर पकड़े जाने पर 1 लाख 26 हजार 750 रुपए पेनल्टी का प्रावधान है। इसी तरह एक डंपर पकड़ा जाने पर पूर्व में 1 लाख 7 हजार रुपए पेनल्टी लगाई जाती थी। अब इसे बढ़ा कर 2 लाख 7 हजार रुपए कर दिया गया है।
लालच फिर भी बरकरार
खनिज विभाग की ओर से इस बड़ी कार्रवाई के बाद खननकर्ताओं में हड़कंप जरुर है, लेकिन अभी भी बजरी के कारोबार में गाढ़ी कमाई के चक्कर में खननकर्ता इस कारोबार से परहेज नहीं कर रहे। विभागीय अधिकारियों का कहना है कि कार्रवाई का क्रम जारी रहेगा, लेकिन दूसरी तरफ यह पक्ष भी अहम है कि कम स्टाफ के भरोसे पूरे जिले में इस अवैध कारोबार पर नकेल कसना पूरी तरह से संभव नहीं है। अलबत्ता पेनल्टी शर्तों में भारी भरकम बढ़ोतरी के कारण अब खननकर्ता पुलिस और विभाग की टीम की नजरों से बचकर इस कारोबार को कर रहे हैं।

[MORE_ADVERTISE1]