स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

आठ साल से जल रही बिजली, कागजों में चल रहा कनेक्शन बंद

Dharmendra Ramawat

Publish: Nov 09, 2019 10:21 AM | Updated: Nov 09, 2019 10:21 AM

Jalore

www.patrika.com/rajasthan-news

चितलवाना. डिस्कॉम अधिकारियों की अनदेखी के चलते पीएचईडी का बिजली कनेक्शन कागजों में बंद करने के बावजूद पिछले आठ साल से बिजली शुरू होने से विभाग को चूना लग रहा है। दरअसल, डीएस ढाणी धोलीनाडी हेमागुड़ा में पीएचईडी ओर से मार्च 2008 में ग्रामीणों के पेयजल आपूर्ति को लेकर सांसद मद से ट्यूबवेल खुदवाया गया था। जिसके लिए डिस्कॉम ने यहां बिजली कनेक्शन जारी किया गया था। कुछ समय बाद डिस्कॉम के अधिकारियों ने वर्ष 2011 में बिल बकाया होने के कारण यह कनेक्शन कागजों में काट दिया। जबकि मौके पर यह कनेक्शन आज भी चालू है। ऐसे में पिछले आठ साल से यहां बिजली सप्लाई तो चालू है, लेकिन विभाग की ओर से बिल जारी नहीं किए गए। जिससे डिस्कॉम को लाखों रुपए का चूना लग रहा है।
खुलासा हुआ तो सकते में आए अधिकारी
भादरुणा डिस्कॉम की डीएस ढाणी हेमागुड़ा में स्थित इस ट्यूबवेल पर लगा ट्रांसफार्मर जल जाने के बाद ग्रामीणों की ओर से ट्रांसफार्मर बदलने के लिए अधिकारियों को अवगत करवाया। जिसके बाद अधिकारियों ने इसके बिजली कनेक्शन की पड़ताल करनी शुरु की। ऐसे में कनेक्शन का कोई बिल जनरेट नहीं होने पर अधिकारी सकते में आ गए। बाद में सामने आया कि ट्यूबवेल के कनेक्शन जारी होने के बाद 2011 में कनेक्शन कागजों में ही बंद कर दिया गया था।
आठ माह पहले ही बदला था ट्रांसफार्मर
भादरुणा डिस्कॉम की ओर से करीब आठ माह पहले पीएचईडी के ट्यूबवेल पर लगे ट्रांसफार्मर के जलने के बाद ग्रामीणों की शिकायत पर बदल दिया गया था। जबकि उस समय भी इसका बिल जारी नहीं हो रहा था। इससे पहले भी दो बार इस ट्रांसफार्मर को बदला गया था।
इनका कहना...
इसके बारे में पहले जानकारी नहीं थी। जब ट्रांसफार्मर जला तो पता करने पर सामने आया कि आठ साल से कनेक्शन बंद था। अब इसका आवेदन निकलवाकर मीटर में रीडिंग से बिल जनरेट करवाया जाएगा।
- हरिशंकर, एईएन, डिस्कॉम भादरुणा

[MORE_ADVERTISE1]