स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कलक्टर ने राजस्व अधिकारियों से पूछा- आखिर क्यों पात्र लोगों के मनीऑर्डर तीन से अधिक बार फिर लौट रहे...

Dharmendra Ramawat

Publish: Dec 11, 2019 11:22 AM | Updated: Dec 11, 2019 11:22 AM

Jalore

www.patrika.com/rajasthan-news

जालोर. जिला कलक्टर महेन्द्र सोनी ने कहा कि राजस्व अधिकारी राजस्व कार्यों के अतिरिक्त राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना, सामाजिक कल्याण की विभिन्न पेंशन योजनाओं एवं प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि आदि योजनाओं में भी विशेष सक्रियता एवं निर्धारित समयबद्धता के साथ इन योजनाओं को भी सरकार की मंशा के अनुरूप मूत्र्तरूप दें और अपने क्षेत्र से सम्बन्धित बकाया प्रकरणों को अभियान चलाकर पूर्ण करें ताकि जिला अन्य जिलों में तुलना में आगे बढ़ सकें।
जिला कलक्टर सोनी मंगलवार को कलक्ट्रेट सभा कक्ष में राजस्व अधिकारियों की बैठक में उपस्थित अधिकारियों को निर्देशित कर रहे थे। उन्होंने बैठक में राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत बकाया अपीलों की तहसीलवार समीक्षा करते हुए कहा कि राजस्व अधिकारी एक लाभार्थी के नाते सोचते हुए जरूरतमंद पात्र लोगों को सुविधा मुहैया करवाए जाने के कार्य में किसी भी स्तर पर कोई कमी नहीं रखें। वहीं अपात्र व्यक्ति यथा-सरकार कर्मचारी या कोई अमीर व्यक्ति इन सुविधाओं का लाभ ले रहा है तो उसे हटाने के कार्य में किसी भी स्तर पर संकोच नहीं करे। उन्होंने राजस्व अधिकारियों को कहा कि आगामी तीन दिन में अपने अधीनस्थ अधिकारियों एवं कर्मचारियों के माध्यम से अभियान चलाकर इसे न्यूनतम स्तर पर लावेें। उन्होंने सामाजिक सुरक्षा कल्याण की पेंशन योजनाओं की विस्तार से समीक्षा करते हुए कहा कि उपखण्ड अधिकारी पेंशन के बकाया भौतिक सत्यापन के कार्यो में स्वयं रुचि ले तथा अपने क्षेत्र में 80 वर्ष की आयु के पात्र व्यक्तियों के मनीऑर्डर जोकि किन्ही कारणों से गत तीन बार से अधिक संख्या में पुन: लौट रहे हैं ऐसे मामलों में अपने अधीनस्थ कार्मिकों को मौके पर भेजे तथा उनकी जांच करवाए कि किस कारण से मनीऑर्डर लौट रहे है। यदि व्यक्ति की मृत्यु हो चुकी है या अन्यत्र स्थान पर रह रहा है तो पूर्ण टिप्पणी लें ताकि उन्हें बकाया से हटाया जा सकें। जिला कलक्टर ने बैठक में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत बकाया प्रकरणों को गंभीरता से लेते हुए उपखण्ड अधिकारियों को निर्देशित किया कि वे नियमित रूप से इसकी मॉनिटरिंग करें तथा जिस स्तर पर भी कमियां रही है उन्हें सुधारते हुए जिले में शत-प्रतिशत पात्र किसानों को योजना से जोडऩे की दिशा में प्रभावी कार्य करें। उन्होंने सीएम सम्पर्क पोर्टल पर लाइट्स के लम्बित प्रकरणों में भी विशेष ध्यान रखने के निर्देश दिए। बैठक में अतिरिक्त जिला कलक्टर छगनलाल गोयल ने कहा कि पंचायतराज चुनावों से सम्बन्धित आदेशों एवं परिपत्रों का भली प्रकार अद्यतन कर चुनाव की प्रक्रिया एवं वार्डो के आरक्षण के लिए निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार कार्य करें। जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अशोक कुमार ने कहा कि जिले में वर्ष 2050 को दृष्टिगत रखते हुए ग्रामों का विलेज मास्टर प्लान तैयार किया जा रहा है।जिसमें राजस्व भूमियों का चिन्हीकरण किया जाकर भविष्य की आवश्यकताओं के लिए निर्देशों के अनुरूप कार्य किया जाएगा। जिसमें सम्बन्धित ग्रामों के पटवारी ग्रामसेवकों को यथेष्ट सहयोग करे ताकि कार्य सफलतापूर्वक सम्पन्न हो सके।बैठक में सूचना एवं विज्ञान अधिकारी संजय रामदेव ने मतदाता सूचियों के पुनरीक्षण के सम्बन्ध में आवश्यक जानकारी दी। वहीं प्रमुख राजस्व अधिकारियों ने भी अपने क्षेत्र की प्रमुख समस्याओं एवं प्रगति के सम्बन्ध में बताया। इस अवसर पर भीनमाल के उपखण्ड अधिकारी अवधेश मीना, जालोर उपखण्ड अधिकारी चम्पालाल जीनगर, सायला उपखण्ड अधिकारी गोमती शर्मा, सांचौर उपखण्ड अधिकारी भूपेन्द्र यादव, रानीवाडा उपखण्ड अधिकारी प्रकाशचन्द्र अग्रवाल, आहोर उपखण्ड अधिकारी प्रशान्त शर्मा एवं जसवन्तपुरा उपखण्ड अधिकारी पुष्पा पंवार सहित सभी तहसीलदार, नायब तहसीलदार एवं जिला स्तरीय अधिकारी आदि उपस्थित थे।

[MORE_ADVERTISE1]