स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

खनन विभाग की टीम को घेरने वालों के खिलाफ मामला दर्ज, अब भारी भरकम होगी वसूली

Khushal Singh Bhati

Publish: Dec 10, 2019 09:46 AM | Updated: Dec 10, 2019 09:46 AM

Jalore

- उम्मेदपुर क्षेत्र में पचानवा स्थित जवाई नदी में सवेरे कार्रवाई के दौरान खनिज विभाग को घेरा, आहोर थाने में पेश की रिपोर्ट

जालोर. आहोर के उम्मेदपुर क्षेत्र के अंतर्गत पचानवा जवाई नदी बहाव क्षेत्र में बजरी के अवैध खनन की सूचना पर पहुंची खनिज विभाग की टीम को खनन कर्ताओं ने न केवल घेर लिया, बल्कि मौके से जब्त किए गए चार ट्रेक्टर ट्रोली भी छुड़ा ले गए। मामला सोमवार अल सवेरे का है। फोरमैन प्रवीण कुमार के अनुसार अल सवेरे कार्रवाई के दौरान एक कार और बाइक समेत अन्य संसाधनों से 15 से 20 लोग मौके पर पहुंच गए और टीम को घेर लिया। इस दौरान टीम द्वारा जब्त किए गए चारों ट्रेक्टर को ये लोग छुड़ा ले गए। इस नदी के बहाव क्षेत्र से पिछले लंबे समय से बजरी का अवैध खनन हो रहा है। इस बारे में विभागीय टीम को सूचना के मिलने के बाद सवेरे यहां दबिश दी। इस दौरान यहां ट्रेक्टरों में बजरी भरी जा रही थी। जैसे ही टीम यहां पहुंची तो खननकर्ताओं ने टीम को घेर लिया और इस बीच बचाव और नौक झोक के बीच चारों ट्रेक्टर ट्रोली चालक मौके से फरार होने में कामयाब हुए।
बजरी खाली कर फरार हुए आरोपी
विभागीय टीम के अनुसार टीम के मौके पर पहुंचने के साथ ही लोड किए गए टे्रक्टर चालक मौके फरार हो गए। इस बीच आरोपियों ने बीच सड़क पर बजरी को भी खाली कर दिया। इधर, रविवार रात को सांफाड़ा के नजदीक पुलिस द्वारा की गई कार्रवाई के दौरान भी ट्रेक्टर चालक बजरी को खाली कर मौके से फरार हो गए थे।
टीम का मेडिकल करवाया
इस घटनाक्रम में टीम के सदस्योंं के साथ हाथापाई हुई। हालांकि बाद में टीम के सदस्य किसी तरह से कार्रवाई के बाद यहां से निकलने में कामयाम हुए और किसी को गंभीर चोटें नहीं आई है, लेकिन इसके बाद टीम के सदस्य आहोर थाने पहुंचे और रिपोर्ट पेश की। साथ ही मेडिकल भी करवाया गया।
बजरी खनन का बड़ा जाल
जालोर के आस पास जवाई नदी के बहाव क्षेत्र लेटा, रतनपुरा, तीखी-पहाड़पुरा, आहोर, भैंसवाड़ा, उम्मेदपुर और पचानवा नदी जवाई बहाव के ऐसे क्षेत्र हैं। जहां पर दिन रात बजरी का अवैध खनन होता है। इन सभी क्षेत्रों में से उम्मेदपुर और पचानवा नदी के बहाव क्षेत्र सबसे बड़े है, जहां से सबसे अधिक और बड़े पैमाने पर बजरी का खनन होता है। इसके लिए बकायदा जेसीबी और लोडर का उपयोग किया जाता है, जिसके बाद ट्रेक्टर ही नहीं, डंपर तक कुछ ही देर में लोड करने के बाद जरुरत के अनुसार भेज दिए जाते हैं। जिसके बाद समय समय पर विभाग की ओर से कार्रवाई होती है। लेकिन उसके बाद भी खननकर्ताओं के हौसले बुलंद है और ये अवैध खनन को अंजाम देने में कामयाब होते हैं। इन क्षेत्रों के अलावा भीनमाल के आस पास नदी के बहाव क्षेत्रों, मोदरा के निकट रानीवाड़ा काबा में सुकड़ी नदी के बहाव क्षेत्र में भी बड़े स्तर पर बजरी का खनन किया जाता है।
फोरमैन ने पेश की रिपोर्ट
प्रकरण में फोरमैन प्रवीण कुमार पटेल ने पचानवा निवासी इंद्रसिंह पुत्र गणपतसिंह राजपूत और डूंगरसिंह पुत्र बलवंतसिंह राजपूत के खिलाफ नामजद रिपोर्ट पेश की। वहीं दो अन्य ट्रेक्टर चालक मौके से फरार हो गए, जिनके नंबरों के आधार पर प्रकरण दर्ज करवाया गया। फोरमैन की रिपोर्ट पर पुलिस ने राजकार्य में बाधा डालनेे, धक्का मुक्की करने और ट्रेक्टर छुड़ा ले जाने पर प्रकरण दर्ज करवाया।
पुलिस ने भी पकड़ा एक ट्रेक्टर
रविवार देर रात को पुलिस को सूचना मिलने पर सांफाड़ा के पास पुलिस ने दबिश दी। जहां पर पुलिस ने बजरी का परिवहन करते हुए एक ट्रेक्टर को पकड़ा।

[MORE_ADVERTISE1]