स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

विधायक का सांकेतिक धरना, अस्पताल की लचर व्यवस्थाओं पर जताया रोष

Jitesh kumar Rawal

Publish: Oct 04, 2019 01:39 AM | Updated: Oct 04, 2019 01:39 AM

Jalore

www.patrika.com/rajasthan-news

विधायक के नेतृत्व में भाजपा कार्यकर्ताओं का प्रदर्शन, जल्द सुधार नहीं होने पर दी आंदोलन की चेतावनी


आहोर. विधायक छगनसिंह राजपुरोहित के नेतृत्व में भाजपा कार्यकर्ताओं ने गुरुवार को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के बाहर सांकेतिक धरना प्रदर्शन कर आक्रोश जताया। अस्पताल में चिकित्सकों के रिक्त पदों पर शीघ्र नियुक्ति को लेकर राज्य सरकार का ध्यान इस ओर आकृष्ट करने के लिए एसडीएम को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन दिया।
धरना स्थल पर विधायक ने कहा कि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में चिकित्सा अधिकारियों के सभी पद रिक्त हैं। चिकित्सकों के कुल आठ पद स्वीकृत है। इनमें से सिर्फ एक पद पर ही चिकित्सक कार्यरत है। वे भी मरीजों पर ध्यान नहीं दे पाते। नेत्र रोग विशेषज्ञ, हड्डी रोग विशेषज्ञ, स्त्री रोग विशेषज्ञ के पद रिक्त है। एएनएम का एक ही पद है, जिसे बढ़ाए जाने की आवश्यकता है। सीएससी का आउटडोर प्रतिदिन 400 से 500 का है और बारिश के मौसम में बीमारियों का प्रकोप ज्यादा हाने से मुश्किल बढ़ रही है। अस्पताल में चिकित्सक नहीं लगाए गए तो बड़ा आंदोलन किया जाएगा। भाजपा के ईश्वरसिंह थुम्बा, ओटरमल परमार, महिपालसिंह चारण, महावीरसिंह समेत पदाधिकारियों ने भी संबोधित किया। मंच संचालन बंशीलाल सुथार ने किया। इस अवसर पर मंडल अध्यक्ष हकमाराम प्रजापत, महामंत्री शांतिलाल सुथार, जेठूसिंह मांगलिया, पूर्व मंडल अध्यक्ष छोगसिंह खिंची, मंडल उपाध्यक्ष उगमसिंह राजपुरोहित, सवाईसिंह राजपुरोहित, राजवीरसिंह देवड़ा, शंकरदान चारण, दिनेशसिंह भाद्राजून, मांगीलाल कवराड़ा, किशनलाल राणा, रावाराम देवड़ा, भंवरसिंह कंवला, पुष्पेंद्रपुरी, वीरचंद खत्री सहित कई कार्यकर्ता उपस्थित थे।


मुआवजा दिए जाने की मांग
बारिश से तबाह हुई फसलों का सर्वे करवाकर किसानों को मुआवजा दिलाने की मांग को लेकर भी मुख्यमंत्री के नाम उपखंड अधिकारी को ज्ञापन दिया गया। विधायक ने बताया कि विधानसभा क्षेत्र में बारिश के कारण फसल पूरी तरह से खराब हो गई है। बेमौसम बारिश ने क्षेत्र के किसानों की उम्मीदों पर पानी फेर दिया। सर्वे कराकर मुआवजा दिलाने की मांग की, ताकि किसानों को कुछ राहत मिल सके।