स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

टोल रोड पर सांकरणा के पास पलटा ब्लॉक लदा ट्रोलर व निजी यात्री बस

Jitesh kumar Rawal

Publish: Sep 11, 2019 14:07 PM | Updated: Sep 11, 2019 14:07 PM

Jalore

www.patrika.com/rajasthan.news

गनीमत रही कि जनहानि नहीं हुई, बस चालक चोटिल, ओवरटेक के चक्कर में बेकाबू हो गए थे दोनों वाहन

ओवरटेक व ओवरलोड नहीं रूकने से बढ़ रहे हादसे


आहोर. सांकरणा के समीप टोल रोड पर मंगलवार को ओवरटेक के चक्कर में निजी यात्री बस व ब्लॉक लदा ट्रोलर पलट गए। गनीमत रही कि हादसे में कोई जनहानि नहीं हुई। बस चालक को मामूली चोटें आई हैं।
जानकारी के अनुसार सांकरणा स्थित जवाई नदी पुलिया के पास मोड़ में बस पलट गई। निजी यात्री बस सवेरे करीब नौ बजे जालोर से आहोर की तरफ आ रही थी। इसमें तीन-चार यात्री सवार थे। पुलिया के समीप मोड़ में निजी बस आगे चल रहे टेम्पो से ओवरटेक करने का प्रयास कर रही थी। इस दौरान सामने से भारी भरकम ग्रेनाइट ब्लॉक से लदा एक ट्रोलर आ गया। टक्कर से बचने केे लिए दोनों वाहन असंतुलित हो गए। निजी बस सड़क पर ही पलट गई, ट्रोलर सड़क किनारे झाडिय़ों में जा घुसा। ग्रेनाइट ब्लॉक नीचे गिर गए। निजी बस में सवार सभी यात्री सुरक्षित बाहर निकल आए। चालक आहोर निवासी सोहनसिंह रावणा राजपूत को मामूली चोटें आई। माना जा रहा है कि ओवरटेक व ओवरलोड वाहनों की रोकथाम नहीं होने से आए दिन हादसे हो रहे हैं।


... नहीं तो जोखिम बढ़ जाती
इधर, गनीमत रही कि ग्रेनाइट ब्लॉक सड़क मार्ग पर नहीं गिरे। अन्यथा बड़ा हादसा घटित हो जाता। वहीं ग्रेनाइट ब्लॉक ट्रेलर के आगे की तरफ नहीं आकर साइड से ही नीचे गिरे। अन्यथा ट्रेलर में सवार चालक समेत अन्य की जान भी जोखिम में पड़ सकती थी। सूचना पर पुलिस ने मौके पर पहुंचकर मुआयना किया।


आंखे मूंदे बैठे हैं जिम्मेदार
ग्रेनाइट ब्लॉक से ओवरलोड वाहनों तथा अन्य ओवरलोड वाहनों से सड़क मार्गों पर आए दिन हादसे घटित होते रहते हैं, लेकिन पुलिस, परिवहन व प्रशासन की ओर से इनके खिलाफ ठोस कार्रवाई नहीं की जा रही है। यही कारण है कि वाहन चालक यातायात नियमों को तोडऩे से बाज नहीं आ रहे।


नियमों की कर रहे अनदेखी
परिवहन विभाग, पुलिस व प्रशासन की ओर से चालकों को ग्रेनाइट ब्लॉक वाहनों में क्षमता से अधिक लदान नहीं करने, ग्रेनाइट पत्थरों का हिस्सा बाहर की तरफ नहीं होने तथा पत्थरों को बेल्ट से बांधे रखने के निर्देश है, लेकिन इनकी पालना नहीं की जा रही कई चालक ग्रेनाइट ब्लॉक बांधने के नाम पर मात्र औपचारिकता कर रहे हैं। यह लोगों की जान पर भी भारी पड़ सकता है।