स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Kisan-karj-mafi-in-rajasthan: आसाणा में परिजनों को दिलवाया दस लाख का ऋण, फिर करवाया माफ

Jitesh kumar Rawal

Publish: Jul 18, 2019 13:34 PM | Updated: Jul 18, 2019 13:34 PM

Jalore

www.patrika.com/rajasthan.news

बालवाड़ा के साथ आसाणा समितिमें भी होगी जांच, फर्जी तरीके से ऋण उठाने व माफ करवाने का मामला

जालोर. राजस्थान फसली ऋण माफी योजना के तहत ऋण उठाकर माफ करवाने एवं व्यवस्थापक के परिजनों को फायदा दिलाने के मामले में जांच शुरू की गई है।मामला आसाणा ग्राम सेवा सहकारी समिति का है।किसानों ने बालवाड़ा ग्राम सेवा सहकारी समिति व्यवस्थापक के खिलाफ परिजनों के नाम से ऋण उठवाने एवं माफ करवाने का आरोप लगाते हुए शिकायत पत्र भेजा था। इस आधार पर जालोर सेंट्रल को-ऑपरेटिव बैंक अधिशासी अधिकारी व सहकारी समितियां उप रजिस्ट्रार को जांच शुरू करने के आदेश दिए हैं।किसानों ने आरोप लगाया कि बालवाड़ा के व्यवस्थापक ने अपने परिजनों के नाम से आसाना समिति में करीब दस लाख रुपए के ऋण उठवाए तथा माफ करवा दिए।साथ ही बालवाड़ा समिति क्षेत्र में फर्जी तरीके से ऋण उठाए तथा माफ करवा दिए।किसानों ने व्यवस्थापक पर करीब डेढ़ करोड़ रुपए की ऋण राशि के घपले का आरोप लगाया है। शिकायत में लिखा कि फर्जी तरीके से उठाया गया ऋण व्यवस्थापक ने डकार लिया तथा योजना के तहत ऋण माफ करवा दिया।ऋण माफी की सूची चस्पा होने पर किसानों को पता लगा कि उनके नाम से ऋण उठ चुका है, लेकिन उन्होंने कभी ऋण लिया ही नहीं था या लेने के बाद वे समय पर जमा करवा चुके थे।

jalore::: http://bit.ly/32oPSGF::: फर्जी तरीके से ऋण उठाकर पैसा डकारने का आरोप


गलत तरीके से दिया...
अधिकारी बताते हैं कि परिजनों को आसाणा समिति में ऋण दिया गया है। इसलिए प्रथ मदृष्टया आसाणा के व्यवस्थापक को भी दोषी माना जा रहा है। हालांकि पूरी स्थिति जांच के बाद ही क्लीयर हो पाएगी, लेकिन अभी तक मिले तथ्यों एवं शिकायत पत्र की जांच के आधार पर व्यवस्थापक पर गलत तरीके से ऋण देने का मामला सामने आ रहा है।

jalore ::: http://bit.ly/2GkSBYe::: हटाना तो दूर दो अन्य समितियों का जिम्मा भी उसके पास


डेढ़ करोड़ के घपले का आरोप
उल्लेखनीय है कि बालवाड़ा के किसानों ने मुख्यमंत्री व जिला कलक्टर को पत्र भेजकर इस मामले में जांच की मांग की थी।आरोप लगाया कि बालवाड़ा व्यवस्थापक ने अपने परिजनों के नाम से आसाणा में करीब दस लाख रुपए के ऋण उठाए एवं माफ करवा दिए। व्यवस्थापक ने बालवाड़ा में भी ऋण माफी योजना के तहत घालमेल किया है।किसानों का आरोप है कि फर्जी तरीके से ऋण उठाकर करीब डेढ़ करोड़ रुपए का घपला किया गया है।

दोनों जगह होगी जांच...
परिजनों के नाम से ऋण उठाने व माफ करने के मामले में भी जांच की जाएगी।इन मामलों को लेकर अब बालवाड़ा व आसाणा दोनों जगह वितरित किए ऋण मामलों की जांच करेंगे। इस सम्बंध में आदेश दे दिए हैं।
- नारायणसिंह चारण, उप रजिस्ट्रार, सहकारी समितियां, जालोर

 


आक्रोशित किसानों ने विरोध कर सौंपा ज्ञापन
सायला . चौराऊ ग्राम सेवा सहकारी समिति में कार्यरत सहायक व्यवस्थापक को चार्ज नहीं देने से किसानों को हो रही दिक्कत को लेकर ग्रामीणों ने विरोध जताया।साथ ही बुधवार को सहकारी समिति के सामने किसानों ने टेंट लगाकर धरने पर बैठे और एईओ महोम्मद हारुन को ज्ञापन सौंपा। किसानों का आरोप है कि सहकारी समिति में सहायक व्यवस्थापक को चार्ज नहीं देने से कार्य अटके पड़े है, जिसका खमियाजा किसानों को भुगतना पड़ रहा है। वही किसानों को ऋण काफी 2019 से वंचित रखने पर किसानों ने एईओ को ज्ञापन सौंपा। प्रकरण में एईओ को बताया कि जिला कलक्टर व बैंक प्रशासक द्वारा प्रारम्भिक जांच में समिति व्यवस्थापक जामताराम मेघवाल द्वारा वित्तीय अनियमितता बरतते हुए सदस्य की बिना साख सीमा स्वीकृति के नियम विरूद्ध समिति सदस्यों को ऋण वितरण करवाए जाने आदि मामले में दोषी पाए जाने पर व्यवस्थापक को आदेश की प्रतीक्षा में रखते हुए जांच पूर्ण होने तक अग्रिम आदेश तक सहायक व्यवस्थापक ललित कुमार को चार्ज देने के निर्देश दिए थे। लेकिन 19 दिन गुजरने के बाद भी सहायक व्यवस्थापक को चार्ज नहीं देने के कारण किसानों के कार्य अटके पड़े है। जिसके कारण ऋण आदि की सुविधा नहीं मिलने से नाराज किसानों ने सोसायटी के आगे टेण्ट लगा कर धरना दिया। किसानों का कहना है कि व्यवस्थापक द्वारा चार्ज नहीं देने के कारण काम अटके पड़े है। इस दौरान जोगसिंह, वोक सिंह, नरपत सिंह, दरगाराम देवासी, वचन सिंह, शैतान सिंह, छैलसिंह, मालाराम, गका राम मेघवाल सहित किसान मौजूद थे।


चौराऊ समिति का रिकॉर्ड जब्त किया
चौराऊ ग्राम सेवा सहकारी समिति में घालमेल की शिकायत के बाद जांच शुरू की गई है।मामले की जांच जालोर सेंट्रल को-ओपरेटिव बैंक ने अधिशासी अधिकारी मोहम्मद हारून कर रहे हैं।उन्होंने समिति का रेकर्ड जब्त कर कार्रवाई शुरू की।उन्होंने बताया कि चौराऊ समिति में लम्बे समय से शिकायत आ रही थी।कार्रवाईके लिए रेकर्ड एकत्र कर लिया है।अब एक-एक मामले की जांच की जाएगी।