स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

भीड़ भरी बस में चढ़ती हैं आधा दर्जन महिलाएं, शिकार ढूंढती और घेरकर बैग में से पार कर लेती हैं सामान, देखें वीडियो

Pushpendra Singh Shekhawat

Publish: Nov 19, 2019 14:45 PM | Updated: Nov 19, 2019 14:45 PM

Jaipur

सावधान! सिटी बसों में महिला गैंग : पत्रिका ने 20 दिन तक बस मेंं महिला गैंग पर रखी नजर, टोंक रोड पर एक दर्जन से अधिक स्टैंड पर खड़ी रहती हैं, 90 फीसदी वारदात सुबह 10 से 12 बजे और शाम 5 से 7 बजे के बीच

विजय शर्मा / जयपुर। अगर आप शहर की सिटी बसों में सफर करते हैं, तो आपको अलर्ट रहने की जरूरत है। कारण है कि बस में आपके इर्द-गिर्द महिला गैंग हो सकती है। सुनने में हैरानी हो रही होगी, लेकिन हकीकत यही है। शहर में खचाखच भरी लो-फ्लोर बसों में यात्रियों के बैग से सामान चुराने वाली महिला गैंग सक्रिय हैं।

टोंंक रोड पर आधा दर्जन से अधिक बस स्टॉप पर सामान चुराने वाली महिलाओं को इंतजार करते हुए देखा जा सकता है। मुंह पर दुपट्टा बांधे और कंधे पर बैग लटका कर गैंग बसों में चढ़ती है और अपना शिकार ढूंढकर वारदात को अंजाम देकर उतर जाती है। जेसीटीएसएल और पुलिस के पास रोज 20-25 शिकायतेें आ रही है, लेकिन किसी तरह की फुटेज नहीं मिलने के कारण कार्रवाई भी नहीं हो रही है। लगातार शिकायतों के बाद अब टोंक रोड पर बसों के संचालन करने में परेशानी आ रही है।

राजस्थान पत्रिका ने महिला गैंग को एक्सपोज करने के लिए इन पर निगरानी रखना शुरू की। लो-फ्लोर परिचालकों के साथ पत्रिका ने महिला गैंग के ठिकानों और बसों में इनके तौर-तरीकों को करीब से देखा। 90 फीसदी वारदात सुबह 10 से 12 बजे और शाम को 5 से 7 बजे के बीच हो रही हैं। 20 दिन तक पड़ताल करने के बाद गैंग की महिलाओं को चिह्नित किया।

युवती के बैग में हाथ डाला, कुछ नहीं मिला
चांदपोल जाने वाली बस संख्या 3 एबी जैसे ही स्टैंड पर पहुंची। एक युवती को बस से उतरते समय तीन महिलाओं ने घेर लिया। युवती के बैग में हाथ डालकर खंगाला, लेकिन कुछ हाथ नहीं आया। बाद में महिलाएं फिर से बस में वारदात के लिए चढ़ गई।

कॉलेज जा रही युवती को बनाया शिकार
टोंक रोड पर सांगानेर से अजमेरी गेट आने वाली बस मेंं कॉलेज जा ही युवती को गैंग की महिलाओं ने शिकार बनाया। महिलाओं ने घेरकर युवती के बैग में से छोटा पर्स चुरा लिया। पर्स चुराने वाली महिला उतर गई। बाद में युवती ने बैग चैक किया,तो हंगामा हो गया।

वारदात कर उतर जाती हैं
लो फ्लोर बसों में शिकार ढूंढने के लिए महिला गैंग की सदस्य टोंक रोड स्थित अजमेरी गेट, महारानी कॉलेज, एसएमएस अस्पताल, नारायण सिंह सर्किल, गांधी नगर रेलवे स्टेशन मोड़, दुर्गापुरा और सांगानेर आदि स्टॉप से बसों में बैठती हैं। यहां यात्रियों की सर्वाधिक आवाजाही रहती है। इसी के साथ बसें कम चलती हैं। ऐसे में बसों में भीड़भाड़ रहती है। गैंग की महिलाएं आसानी से शिकार ढूंढकर वारदात करती हैं।

ये तरीका अपनाती है गैंग
- किसी भी एक स्टॉपेज पर बस का इंतजार करतीं हैं

- मुंह पर दुपट्टा बांधकर हाथ में बैग लटकाती है।

- 6 से 8 की संख्या में महिलाएं एक साथ बस में चढ़ती है।

- बस में चढ़कर महिला यात्री को शिकार बनाती है।

- बस में जिसको शिकार बनाना हो, उसे घेरकर खड़ी हो जाती है।

- बस से उतरते समय महिला के बैग मे हाथ डालकर सामान चुरा लेती है।

- सामान के साथ महिला उतर जाती है। फिर हंगामा होता है, तो दूसरी महिला हालात संभालती है।

[MORE_ADVERTISE1]