स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

26 जनवरी को ही क्‍यों मनाया जाता है गणतंत्र दिवस, जानिए कुछ खास बातें

Santosh Kumar Trivedi

Publish: Jan 24, 2020 15:39 PM | Updated: Jan 24, 2020 15:39 PM

Jaipur

भारत इस साल अपना 71वां गणतंत्र दिवस मना रहा है। 26 जनवरी 1950 को भारतीय संविधान लागू होने के कारण इस दिन गणतंत्र दिवस मनाया जाता है। जानिए इससे जुड़े कुछ सवाल और जवाब-

जयपुर। भारत इस साल अपना 71वां गणतंत्र दिवस मना रहा है। 26 जनवरी 1950 को भारतीय संविधान लागू होने के कारण इस दिन गणतंत्र दिवस मनाया जाता है। जानिए इससे जुड़े कुछ सवाल और जवाब-

प्रश्न— गणतंत्र दिवस के लिए 26 जनवरी का दिन ही क्यों चुना गया?

उत्तर— 26 जनवरी का दिन इसलिए चुना गया क्योंकि 26 जनवरी 1929 को अंग्रेजों की गुलामी के विरुद्ध कांग्रेस ने पूर्ण स्वराज का प्रस्ताव पास किया था।

प्रश्न— गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस में क्या अंतर है?
उत्तर— गणतंत्र दिवस के दिन भारत का संविधान लागू हुआ था, जबकि स्वतंत्रता दिवस के दिन भारत को अंग्रेजी की लंबी गुलामी से आजादी मिली थी। इसलिए हर साल 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस और 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस मनाया जाता है।

प्रश्न— इस साल हम कौनसा गणतंत्र दिवस मना रहे हैं
उत्तर— भारत ने पहला गणतंत्र दिवस 26 जनवरी 1950 में मनाया था। इस हिसाब से 2020 में 71वां गणतंत्र दिवस मनाया जा रहा है।

प्रश्न— नई दिल्ली में आयोजित गणतंत्र दिवस अवसर पर भव्य परेड की सलामी कौन लेता है?
उत्तर— राष्ट्रपति

प्रश्न— भारतीय संविधान का जनक किसे कहते हैं?
उत्तर— डॉक्टर भीमराव अंबेडकर

प्रश्न— भारत ने अपना पहला गणतंत्र दिवस कब मनाया?
उत्तर— 1950 में

प्रश्न— भारत का राष्ट्रगान क्या है?
उत्तर— जन गण मन, रवींद्रनाथ टैगोर ने लिखा

प्रश्न— भारत का राष्ट्रगीत क्या है?
उत्तर— वंदे मातरम, बंकिम चंद्र चट्टोपाध्याय ने लिखा

प्रश्न— 26 जनवरी 2020 को मनाए जाने वाले भारत के गणतंत्र दिवस के मुख्य अतिथि कौन होंगे?
उत्तर— ब्राजील के राष्ट्रपति जेयर बोलसोनारो?

प्रश्न— भारतीय संविधान बनने में कितना समय लगा था
उत्तर— भारतीय संविधान को बनने में 2 साल, 11 महीने और 18 दिन का समय लगा था।

प्रश्न— 26 जनवरी, 1950 को पहले राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद ने तिरंगा कहां फहराया था...?
उत्तर— इरविन स्टेडियम (अब मेजर ध्यानचंद नेशनल स्टेडियम)

[MORE_ADVERTISE1]