स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

जयपुर पुलिस के हैडकांस्टेबल ने क्यों मारा दसवीं कक्षा के छात्र को चांटा!

Dinesh Kumar Gautam

Publish: Dec 19, 2019 18:36 PM | Updated: Dec 19, 2019 18:36 PM

Jaipur

जयपुर पुलिस आम लोगों में विश्वास और अपराधियों में खौफ पैदा करने का वादा करती है, लेकिन पुलिस वर्दी पहने कुछ लोग ऐसा बर्ताव करते हैं कि आमजन में खौफ पैदा करें

जयपुर पुलिस आम लोगों में विश्वास और अपराधियों में खौफ पैदा करने का वादा करती है, लेकिन पुलिस वर्दी पहने कुछ लोग ऐसा बर्ताव करते हैं कि आमजन में खौफ पैदा करें। मामला बस्सी थाना इलाके का है। बस्सी के रहने वाले 10वीं कक्षा के छात्र नेकीराम (14) के पिता अर्जुन लाल मीना ने पुलिस कमिश्नर को शिकायत देकर एक पुलिसकर्मी पर आरोप लगाया है। पिता ने अपने बेटे के साथ मारपीट को पुलिसकर्मी के द्वारा मारपीट करना बताया है, जबकि जिस जगह पुलिस पहुंची वहां पर पहले से ही दो गुटों में झगड़ा हो रहा था। अर्जुन का आरोप है कि मंगलवार शाम लगभग 7 बजे नेकीराम बस्सी चक पर पैन-कॉपी खरीदने गया था। तभी चक पर लड़ाई-झगड़ा हो रहा था। पुलिस आई, तो पुलिस को देख झगड़ा करने वाले भाग गए। पुलिस हैडकांस्टेबल सुरेन्द्र ने नेकीराम को पकड़ लिया और मारपीट करने लगा। नेकीराम से पूछने लगा कि झगड़ा कौन कर रहा था। इसके बाद पुलिसकर्मी ने उसे गाड़ी में पटका और आरोप है कि मारपीट की। हैडकांस्टेबल सुरेन्द्र को बच्चे के साथ मारपीट करने से रोका, तो सुरेन्द्र ने कहा कि मैं सभी के साथ मारपीट करूंगा। तभी लोगों में मेरा भय होगा। और लोग मुझे 'सिंघम' कहेंगे। उसने बच्चे के सीने पर जूते पहने लात भी मारी। और उसे थाने ले गया। मालूम पडऩे पर रात को मेरा बेटा बच्छु सिंह थाने गया और नेकीराम को वापस घर लेकर आया। घर आकर रात को नेकीराम की तबीयत खराब हो गई। उसे उल्टियां होने लगी। अगले दिन उसकी परीक्षा थी। इसलिए उसे रात को ही बस्सी के सरकारी अस्पताल लेकर गए और दवा दिलवाई। पिता ने पत्रिका को बताया कि नेकीराम के सीने में लगातर दर्द हो रहा है। उसका एक्सरे भी करवाया है। सुबह जब बस्सी थाने शिकायत करने गए, हमारी शिकायत भी नहीं ली। मुझे यहां-वहां चक्कर कटाकर लौटा दिया।
डीसीपी पूर्व डॉ. राहुल जैन ने पीड़ित को अपने कार्यालय में बुलाया, हालांकि गुरुवार तक डीसीपी कार्यालय में पीड़ित नहीं पहुंचा था। खास बात यह है कि इलाके के एसीपी तक को पीड़ित ने शिकायत नहीं की है। एसीपी सुरेश सांखला ने बताया कि मामले की जानकारी नहीं है, कार्यालय में शिकायत लेकर कोई नहीं पहुंचा। वहीं बस्सी सीएचसी के एमओ डॉ नितिन जैन ने बताया कि मंगलवार रात को एक छात्र आया था, सीने में दर्द बता रहा था. तब उसे दवा देकर सुबह एक्सरे के लिए बोल दिया था. उसके चेस्ट पर किसी चोट का दर्द था, लेकिन ये स्पष्ट नहीं कहा जा सकता कि चोट किससे लगी.

[MORE_ADVERTISE1]