स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मालपुरा बवाल का असल रावण कौन! पहले भी बिगाड़ा गया था माहौल

Dinesh Kumar Gautam

Publish: Oct 10, 2019 01:52 AM | Updated: Oct 10, 2019 01:52 AM

Jaipur

टोंक जिले tonk news in hindi का मालपुरा एक बार फिर तनाव, कर्फ्यू और इंटरनेट पाबंदी झेल रहा है। इस बार इस विवाद का रावण (ravan)कौन बना। ये पुलिस के लिए सिरदर्द है। हालांकि पुलिस ने कुछ युवकों को हिरासत में लिया है, लेकिन अब धार्मिक उत्सवों पर तनाव पैदा करने वालों को तलाशना और हमेशा के लिए शहर का माहौल सुधारना बड़ी चुनौती है।

राजस्थान rajasthan latest news के टोंक जिले tonk news in hindi का मालपुरा एक बार फिर तनाव, कर्फ्यू और इंटरनेट पाबंदी झेल रहा है। इस बार इस विवाद का रावण (ravan)कौन बना। ये पुलिस के लिए सिरदर्द है। हालांकि पुलिस ने कुछ युवकों को हिरासत में लिया है, लेकिन अब धार्मिक उत्सवों पर तनाव पैदा करने वालों को तलाशना और हमेशा के लिए शहर का माहौल सुधारना बड़ी चुनौती है। माना जा रहा है कि इसके पीछे राजनीतिक शह मिली हुई है जिसके कारण ही उपद्रवी ऐसी हिमाकत करने से नहीं चूकते। दरअसल दशहरा महोत्सव के तहत रावण दहन के समय निकाली गई राम बारात पर कुछ लोगों की ओर से पथराव के बाद उत्पन्न तनाव के चलते किसी भी अप्रिय घटना की आशंका को टालने के लिए प्रशासन ने कस्बे में सुबह पांच बजे बेमियादी कफ्र्यू लगा ब्राडबैंड और मोबाइल इंटरनेट बंद कर दिया। इससे पहले पुलिस बल की मौजूदगी में पालिकाकर्मियों ने बुधवार तड़के चार बजे रावण के पुतले का दहन किया।

-मुख्य आरोपी समेत दो बाल अपचारी निरुद्ध

पथराव मामले में पुलिस ने मुख्य आरोपी सहित दो बाल अपचारियों को निरुद्ध कि या है। कलेक्टर के .के . शर्मा ने बताया, कर्फ्यू और मंगलवार रात एक बजे से गुरुवार शाम 6 बजे तक इंटरनेट बंद कर दिया है। अजमेर रेंज के आईजी संजीव निर्जरी व संभागीय आयुक्त एल.एन. मीना ने मालपुरा पहुंच हालात की जानकारी ली।

-देर रात थाने के बाहर धरना-प्रदर्शन

मंगलवार शाम को हुई घटना के बाद विधायक कन्हैया लाल चौधरी के नेतृत्व में लोगों ने रात को थाने के मुख्यद्वार के सामने धरना दिया। गुस्साए लोग आरोपियों को तत्काल गिरफ्तारी और उपखंड अधिकारी के ट्रांसफर की मांग को लेकर अड़े रहे। दो दौर की वार्ता के बाद धरने को स्थगित करने की घोषणा कर रात को ही रावण दहन पर सहमति जताई, लेकिन धरने पर बैठे हिंदूवादी संगठनों ने रात को रावण दहन को नकारते हुए बुधवार को रावण दहन करने की बात रखी। आखिर तड़के चार बजे पुलिसकर्मियों ने रावण के पुतले का दहन किया।

-अखबारों न बंटने पर लोगों में नाराजगी

प्रशासन की ओर से टैक्सियों से अखबार उतारने के बाद उन्हें उठवा लिया गया। जब वितरक मौके पर पहुंचे तो उन्हें अखबार नहीं मिले। प्रशासन ने अखबार वितरण नहीं करने देने पर शहर के लोगों में नाराजगी भी दिखाई दी।

-सुबह पांच बजे कर्फ्यू की घोषणा...दिनभर पुलिस की गश्त

पुलिस ने शांति व्यवस्था को लेकर रावण दहन के बाद कस्बे में सुबह पांच बजे माइक से कर्फ्यू की घोषणा की। बुधवार को दिनभर कस्बे में पुलिस के जवान गश्त करते रहे।