स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

जल संरक्षण और स्वच्छता होगा पाठ्यक्रम का हिस्सा

Nishi Jain

Publish: Dec 14, 2019 19:17 PM | Updated: Dec 14, 2019 19:17 PM

Jaipur

 

विश्वविद्यालयों और डिग्री कॉलेजों को पत्र लिखकर दिया सुझाव

एनसीसी, एनएसएस से स्लोगन भाषण प्रतियोगिताएं कराई जाएं

जयपुर.जल संरक्षण, स्वच्छता और नदियों का संरक्षण अब विश् वविद्यालयों के पाठ्यक्रम का जल्द ही हिस्सा बनेगा। उच्च शिक्षा निदेशालय ने प्रदेश के सभी राज्य विश्वविद्यालयों के रजिस्टार और राजकीय, सहायता प्राप्त एवं वित्त विहीन डिग्री कॉलेजों के प्राचार्यों को पत्र लिखकर इन विषयों से संबधित संक्षिप्त माड्यूल तैयार कर इसे पाठ््यक्रम मं शामिल करने का सुझाव दिया है।

उच्च शिक्षा निदेशालय के संयुक्त निदेशक डॉ एचपी सिंह ने पत्र लिखकर कानपुर में प्र्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में होने वाली नेशनल गंगा काउंसिल की बैठक का संदर्भ देते हुए लिखा है। उन्होंने कहा है कि जिला कल्याण समितियों के सहयोग से नमामि गंगे कार्यक्रम के अंतगर्त विश्वविद्यालयों और कॉलेजों में एनसीसी और एनएसएस के विद्यार्थियों से जल संरक्षण पर कार्यक्रम भी संचालित कराए जाए। ताकि नदियों के जल संरक्षण के लिए आयोजित होने वाले कार्यक्रमों में उच्च शिक्षा विभाग की सहभागिता हो सके। जल संरक्षण एवं स्वच्छता पर स्लोगन, निबंध लेखन एवं भाषण प्रतियोगिता करनो का भी सुझाव दिया है।

[MORE_ADVERTISE1]