स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बच्चाचोर समझ ग्रामीणों ने पुलिसकर्मियों से की मारपीट, बनाया बंधक

vinod saini

Publish: Oct 10, 2019 01:11 AM | Updated: Oct 10, 2019 01:11 AM

Jaipur

समीपवर्ती गुजरात के वलसाड (Valsad of Gujarat) जिले के पारड़ी थाने से कुशलगढ़ थाना (Kushalgarh police station) इलाके की सारणा पंचायत के बस्सी गांव में कुछ आरोपियों की तलाश में आए पुलिसकर्मियों (Policemen) को बुधवार शाम को ग्रामीणों ने बच्चा चोर समझकर (As a child thief) मारपीट करते हुए बंधक (mortgage) बना लिया।

कुशलगढ़ थाने से पहुंची पुलिस ने छुड़ाया

बांसवाड़ा। समीपवर्ती गुजरात के वलसाड (Valsad of Gujarat) जिले के पारड़ी थाने से कुशलगढ़ थाना (Kushalgarh police station) इलाके की सारणा पंचायत के बस्सी गांव में कुछ आरोपियों की तलाश में आए पुलिसकर्मियों (Policemen) को बुधवार शाम को ग्रामीणों ने बच्चा चोर समझकर (As a child thief) मारपीट करते हुए बंधक (mortgage) बना लिया। घंटों तक गांव में बंधक बने रहने के बाद सूचना पर कुशलगढ़ थाने का पुलिस बल पहुंचा और उन पुलिसकर्मियों को छुड़वाकर कुशलगढ़ थाने लाया गया।
घंटों तक बनाए रखा बंधक
ग्रामीणों के अनुसार गुजरात के पुलिस कार्मिक एक कार में सवार होकर आए थे। उन्होंने अपने वाहन की नंबर प्लेट हटा दी थी। इसके अलावा कार सवार कुछ पुलिसकर्मियों ने अपने मुंह ढंक रखे थे। जब वे गांव में पहुंचे तो कुछ बच्चों से पूछताछ करने लगे। इस पर ग्रामीणों को बच्चा चोर होने का शक हुआ। इस पर ग्रामीण एकत्रित हो गए और उन्होंने पुलिस कर्मियों को दबोचते हुए उनके साथ मारपीट शुरू कर दी। देखते ही देखते मौके पर बड़ी संख्या में ग्रामीण एकत्रित हो गए। कुछ ग्रामीणों ने गुजरात के इन पुलिसकर्मियों को एक कमरे में बंद कर दिया।

बिना मंजूरी के गांव गए
पुलिस अधीक्षक केसर सिंह शेखावत ने बताया कि गुजरात के वलसाड की पुलिस ने यहां आने से पहले किसी प्रकार की स्वीकृति नहीं ली और सीधे ही गांव में आरोपियों की धरपकड़ के लिए पहुंच गई। पुलिस ने जैसे ही ग्रामीण को दबोचा तो ग्रामीण एकत्रित हो गए। बात बिगड़ी तो ग्रामीण आक्रोशित हो गए और उन्होंने पुलिसकर्मियों को संदिग्ध मानकर बंधक बना लिया। यह सूचना रात करीब आठ-नौ बजे प्रभारी हनुवंत सिंह सहित थाने का जाप्ता मौके पर पहुंचा और गुजरात पुलिस कर्मियों को ग्रामीणों से छुड़ाकर अपने साथ थाने लेकर आए।