स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Swachh Survey 2020 : PinkCity Jaipur को Number One बनाना है तो Good Feedback दें

Pawan kumar

Publish: Dec 06, 2019 13:43 PM | Updated: Dec 06, 2019 13:43 PM

Jaipur

जयपुर में चल रहा है स्वच्छ सर्वेक्षण-2020
स्वच्छता सर्वेक्षण के प्रचार प्रसार में जुटा नगर निगम
जेएलएन रोड पर लगाए बोर्ड और होर्डिंग्स
जयपुर के लोगों में जागरूकता फैला रहा है निगम

राजधानी जयपुर में स्वच्छ सर्वेक्षण—2020 चल रहा है। सर्वेक्षण में जयपुर शहर को बेहतरीन रैंकिंग मिले इसके लिए नगर निगम प्रशासन लोगों को जागरूक करने में जुटा है। स्वच्छ सर्वेक्षण 2020 का प्रचार प्रसार करने के लिए नगर निगम ने जेएलएन रोड पर बोर्ड और होर्डिंग्स लगवाए हैं। इस बार स्वच्छ सर्वेक्षण में 25 फीसदी अंक लोगों से मिलने वाले फीडबैक से मिलेंगे। इसलिए नगर निगम शहरवासियों को सर्वेक्षण के बारे में जानकारी दे रहा है।

गौरतलब है कि स्वच्छता सर्वेक्षण—2020 के पैटर्न में बदलाव किया गया है। देशभर के शहर पूरे साल सफाई पर ध्यान दें, इसके लिए स्वच्छता सर्वेक्षण को 4 चरण में बांटा गया। पहला फेज अप्रैल से जून 2019 तक, दूसरा चरण जुलाई से सितम्बर 2019 और तीसरा चरण अक्टूबर से दिसम्बर 2019 तक चल रहा है। तीसरे फेज में स्वच्छता को बेहतर बनाने के लिए नगर निगम प्रशासन पूरा जोर लगा रहा है। घर—घर कचरा संग्रहण से लेकर रात्रिकालीन सफाई पर जोर दिया जा रहा है। स्वच्छता सर्वेक्षण का तीसरा फेज 31 दिइसम्बर 2019 को खत्म होगा। इससे पहले केन्द्रीय टीम जयपुर में ओडीएफ सफाई व्यवस्था का जायजा ले सकती है।

दर्जा बरकरार रखने की कवायद
जयपुर शहर को खुले में शौच मुक्त शहर (ओडीएफ सिटी) घोषित किया जा चुका है। जयपुर को ओडीएफ प्लस का दर्जा प्राप्त है, राजधानी के ओडीएफ प्लस स्टेट्स को परखने के लिए केन्द्रीय टीम इसी महीने जयपुर दौरा करेगी। इसे देखते हुए निगम प्रशासन शहर में बने पब्लिक टॉयलेट्स की साफ सफाई समेत अन्य व्यवस्थाओं को दुरूस्त करने में जुटा है। शौचालयों में पानी की उपलब्ध्ता और समय पर सफाई की मॉनिटरिंग की जा रही है। जयपुर में चल रहा है स्वच्छ सर्वेक्षण—2020, स्वच्छता सर्वेक्षण के प्रचार प्रसार में जुटा नगर निगम, जेएलएन रोड पर लगाए बोर्ड और होर्डिंग्स, जयपुर के लोगों में जागरूकता फैला रहा है निगम!

ये रहेगा सर्वेक्षण का अंकगणित

कुल अंक —6000

प्रत्यक्षण अवलोकन — 1500
प्रमाणीकरण — 1500
सर्विस लेवल प्रोग्रेस — 1500
सिटीजन फीडबैक — 1500

[MORE_ADVERTISE1]