स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सोनिया के फीडबैक में आखिर क्या

Rahul Singh

Publish: Sep 11, 2019 14:40 PM | Updated: Sep 11, 2019 14:40 PM

Jaipur

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने जब से पार्टी की कमान दुबारा संभाली है तब से पार्टी में थोडी हलचल शुरू हो गई है।

जयपुर। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने जब से पार्टी की कमान दुबारा संभाली है तब से पार्टी में थोडी हलचल शुरू हो गई है। सोनिया गांधी हर राज्य के खासकर कांग्रेस शासित प्रदेशों के राजनीतिक हालात जान रही है साथ ही जिन प्रदेशों में आगामी विधानसभा चुनाव होने है, उनका भी पूरा खाका खींच रही है।

राजस्थान के भी नेता लगातार सोनिया गांधी से मिलकर फीडबैक दे रहे है। सीएम अशोक गहलोत, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट के साथ साथ अन्य कई नेता भी सोनिया से मिले है और संगठन की मजबूती को लेकर विचार विमर्श किया है। इसी सिलसिले मेंराजस्थान कांग्रेस के वरिष्ठ उपाध्यक्ष और पूर्व सांसद गोपाल सिंह इडवा ने मंगलवार को नई दिल्ली में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की। इडवा और गांधी के बीच प्रदेश संगठन को लेकर वार्ता हुई। सोनिया ने इडवा से प्रदेश सरकार और संगठन के कार्यों की जानकारी ली।

ईडवा 2014 में राजसमंद से लोकसभा सांसद चुने गए थे। इसके बाद 2019 में उन्हें चित्तौडगढ से कांग्रेस का टिकट दिया गया लेकिन वो काफी बड़े अंतर से चुनाव हारे थे।ईडवा जब सोनिया से मिलकर निकले तो उन्होंने मीडिया से बात भी की और मुलाकात की जानकारी दी। पूर्व सांसद इडवा ने बताया कि उन्होंने सोनिया गांधी से मिलने का वक्त मांगा था। उन्होंने समय दिया और प्रदेश के वर्तमान राजनीतिक हालात के संबंध में जानकारी ली है।

उन्होंने बताया कि सोनिया गांधी को संगठन और सरकार के कार्यों के बारे में भी जानकारी दी गई है। साथ ही इडवा ने मुश्किल समय में कांग्रेस की कमान संभालने के लिए सोनिया गांधी का आभार भी जताया। आपको बता दें कि कांग्रेस आलाकमान लगातार राजस्थान में पार्टी की स्थिति को लेकर फीडबैक ले रहा है। इसी क्रम में इडवा ने सोनिया गांधी से मुलाकात की है। इससे पहले प्रभारी अविनाश पांडे के साथ भी सोनिया गांधी वार्ता कर चुकी है। एक व्यक्ति एक पद के सिद्धांत को लेकर राजस्व मंत्री हरीश चौधरी भी पांडे से मुलाकात कर चुके हैं। आने वाले समय में सोनिया गांधी कुछ अहम फैसले ले सकती है।