स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

नया लचीला टचस्क्रीन जिस पर रोज पढ़ा जा सकेगा अखबार

Anoop Singh

Publish: Jan 26, 2020 01:18 AM | Updated: Jan 26, 2020 01:18 AM

Jaipur

स्मॉर्ट फोन, कंप्यूटर, स्मार्टटीवी जैसे उपकरण पूरी तरह बदल जाएंगे

मेलबर्न.
ऑस्ट्रेलियाई वैज्ञानिकों ने ऐसा टचस्क्रीन बनाने का दावा किया है, जिसे आसानी से मोड़कर ट्यूब में रोल किया सकेगा और इसी में अखबार भी पढ़ा जा सकेगा। इससे स्मॉर्ट फोन, कंप्यूटर, स्मार्टटीवी जैसे उपकरण पूरी तरह बदल जाएंगे। रॉयल मेलबर्न इंस्टीट्यूट ऑफ टक्नोलॉजी के शोधकर्ताओं ने इंडियम टिन ऑक्साइड से अल्ट्रा-पतली लचीली इलेक्ट्रॉनिक सामग्री को विकसित किया और इसे 2डी फिल्म में बदलने के लिए एक तरल धातु मुद्रण तकनीक का उपयोग किया है। यह स्मार्टफोन और टैबलेट्स की टचस्क्रीन सामग्रियों की तुलना में 100 गुना पतले हैं। सैमसंग और मोटोरोला जैसे स्मार्टफोन निर्माताओं ने हाल ही में अपने नए उत्पाद के डिस्प्ले जारी किए हैं, जो बिना टूटे आसानी से मोड़े जा सकते हैं, लेकिन आरएमआइटी टीम का कहना है कि उनका नया संस्करण किसी भी ऐंगल से मरोड़ा जा सकता है।

बैटरी बैकअप में भी होगा इजाफा
डॉ. डेनेके ने बताया कि नए टचस्क्रीन वाला सेल फोन कम बिजली का उपयोग करेगा जिससे बैटरी बैकअप भी लगभग 10 प्रतिशत बढ़ जाएगा। मौजूदा समय में टचस्क्रीन के लिए पारदर्शी फिल्मों के निर्माण की वर्तमान विधियां धीमी और महंगी प्रक्रिया है, जिन्हें बनाने से पहले आसपास की हवा को हटाने के लिए वैक्यूम चैबर भी बनाना पड़ता है। डॉ. डेनेके ने बताया कि इसे बनाने के लिए महंगे या विशेष उपकरणों की जरूरत नहीं है। इसे घर में किचन जितनी जगह में बनाया जा सकता है।
मौजूदा टचस्क्रीन से होंगे बेहद किफायती
आरएमआइटी के प्रमुख शोधकर्ता डॉ. तोरबेन डेनेके ने कहा, हमने एक पुरानी सामग्री से इसे नया प्रोडक्ट बनाने के लिए अंदर से बदल दिया है। यह बेहद सस्ते होंगे। ये अति सूक्ष्म चादर जैसी वास्तव में दो आयामी है, जिसका अर्थ है कि वे परमाणुओं की एकल परतों से मिलकर बनाते हैं, जिससे वे बेहद पतले होते हैं। उन्होंने बताया कि टीम ने सेल फोन टचस्क्रीन में एक पतली फिल्म का इस्तेमाल किया है।

[MORE_ADVERTISE1]