स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अगले सत्र से कम हो सकता है स्कूली बच्चों के बेग का वजन, सरकार कर रही है ये तैयारी

abdul bari

Publish: Dec 09, 2019 17:42 PM | Updated: Dec 09, 2019 18:02 PM

Jaipur

( Rajasthan Education Department ) शिक्षा राज्यमंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा (Rajasthan Education Minister Govind Singh Dotasara ) ने सोमवार को शिक्षा संकुल में प्री-प्राइमरी से माध्यमिक स्तर तक के छात्रों के लिए शिक्षा में सुधार और देश में स्कूली शिक्षा में उत्कृष्टता के लिए किए जा रहे कार्यों बस्ते का बोझ कम करने की रिपोर्ट के लोकार्पण के मौके पर कार्यक्रम को संबोधित किया। ( school bag weight )

जयपुर

( Rajasthan Education Department ) शिक्षा राज्यमंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा (Rajasthan Education Minister Govind Singh Dotasara ) ने सोमवार को शिक्षा संकुल में प्री-प्राइमरी से माध्यमिक स्तर तक के छात्रों के लिए शिक्षा में सुधार और देश में स्कूली शिक्षा में उत्कृष्टता के लिए किए जा रहे कार्यों और पीरामल फाउण्डेशन द्वारा उन्हें बस्ते का बोझ कम करने की रिपोर्ट के लोकार्पण के मौके पर कार्यक्रम को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि राजस्थान देश का पहला राज्य है जहां बस्ते के बोझ को कम करने की पहल ( school bag weight ) की गई है।


अगले सत्र से कम हो सकता है बेग का वजन ( school bag weight )

डोटासरा ने कहा कि इसके तहत जयपुर को पायलट प्रोजेक्ट के रूप में लेते हुए राज्य के सभी 33 जिलों के एक-एक स्कूल में बस्ते के बोझ को कम करने के प्रयास के सकारात्मक परिणाम सामने आए हैं। बस्ते के बोझ को कम करने के आए परिणामों की समीक्षा की जा रही है। राज्य सरकार का प्रयास है कि अगले वर्ष कक्षा एक से पांच तक के अंतर्गत राज्य के 65 हजार विद्यालयों में बस्ते का बोझ कम करने की परियोजना को पूरी तरह से लागू कर दिया जाए।

एमओयू पर भी हस्ताक्षर किये गए

इस अवसर पर झुंझुनूं जिले को ‘इनोवेशन हब फॉर एक्सीलेंस इन स्कूल एजुकेशन‘ के रूप में विकसित करने के लिए शिक्षा विभाग एवं पीरामल फाउण्डेशन के मध्य एमओयू पर भी हस्ताक्षर किये गये।

मंत्री ने बताया कि झुंझुनूं को भारत में ‘पीआईएसए‘ (प्रोग्राम फॉर इंटरनेशनल स्टूडेंट असेसमेंट) के लिए तैयार रहने वाला पहला जिला बनाने का लक्ष्य राज्य सरकार ने मॉडल के रूप में रखा है। इसके तहत छात्रों को सामाजिक, भावनात्मक और नैतिक रूप से सक्षम बनाने के लिए एक अत्याधुनिक पाठ्यक्रम लागू करने का प्रयास राज्य सरकार पायलट प्रोजेक्ट के रूप में झुन्झुनू जिले से करेगी।

शिक्षा में हो रहे नवाचारों की दी जानकारी

राजस्थान स्कूल शिक्षा परिषद के आयुक्त प्रदीप कुमार बोरड़ और राज्य परियोजना निदेशक अभिषेक भगोतिया ने स्कूल शिक्षा में हो रहे नवाचारों के साथ ही बस्ते का बोझ कम किए जाने के संबंध में हुए कार्यों के बारे में विस्तार से जानकारी दी।

यह खबरें भी पढ़ें...

राजस्थान में सर्दी के तेवर तीखे, कुम्भलगढ़ में जमी बर्फ, शीतलहर से तीन डिग्री तक गिरेगा पारा


हाईवे पर सेना के ट्रक में अचानक लगी भीषण आग, समय पर नहीं पहुंची दमकल


राजधानी में ट्रैफिक पुलिस ने किया ऐसा काम, पुलिस उपायुक्त यातायात बोले- 'शाबाश'

[MORE_ADVERTISE1]