स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

संस्कृत विश्वविद्यालय बांटेगा 2017-2018 के विद्यार्थियों को 25 हजार डिग्रीयां,चार रंग में होगी डिग्री लेकिन नहीं होंगे सिक्योरिटी फीचर्स

HIMANSHU SHARMA

Publish: Oct 21, 2019 11:19 AM | Updated: Oct 21, 2019 11:19 AM

Jaipur

300 जीएसएम के कागज पर दो संस्कृत और अंग्रेजी भाषा में छपेगी डिग्रीयां

जयपुर

जगद्गुरु रामानन्दाचार्या राजस्थान संस्कृत विश्वविद्यालय विद्यार्थियों को 25 हजार डिग्रीयां बांटेगा। यह डिग्रीयां शैक्षणिक सत्र 2017 और 2018 में विश्वविद्यालय से पास आउट हो चुके विद्यार्थियों को मिलेगी। हालांकि विश्वविद्यालय यह डिग्रीयां तो बांटेगा लेकिन इन डिग्रीयों में फर्जीवाड़ा रोकने के लिए कोई उपाय नहीं किए गए हैं। विश्वविद्यालय में बंटने वाली यह डिग्रीयां सिक्योरिटी फीचर्स से लैस नहीं होगी। जबकि प्रदेश के अन्य विश्वविद्यालय जिसमें राजस्थान विश्वविद्यालय,तकनीक विश्वविद्यालय,ब्रज विश्वविद्यालय सहित अन्य संस्थान सिक्योरिटी फीचर्स से लैस डिग्री छपवा कर विद्यार्थियों को दे रहे हैं। जिससे की डिग्री को लेकर होने वाले फर्जीवाड़े रुक सकें। लेकिन संस्कृत विश्वविद्यालय की छपने वाले डिग्री में सिक्योरिटी फीचर नहीं होंगे। संस्कृत विश्वविद्यालय की छपने वाले डिग्रीयां कागज पर चार रंग में होगी। जो अल्ट्रा व्हाइट माउंटेबल पेपर या इसके समकक्ष पेपर पर छपी होगी। डिग्री छापने का काम जयपुर सांगानेर की एक फर्म को ही दिया गया हैं। जो यह डिग्रीयां 300 जीएसएम के कागज पर दो भाषाओं में संस्कृत और अंग्रेजी छापेगी। हालांकि डिग्री में सामान्य होगी लेकिन डिग्री पर लेमिलेशन किया हुआ होगा। डिग्री छापने के लिए प्रत्येक डिग्री पर विश्वविद्यालय का 21 रुपए 17 पैसे का खर्चा आएगी।
सिक्योरिटी फीचर्स से लैस डिग्रीयों में फर्जीवाड़ा आसान नहीं
प्रदेश के अन्य विश्वविद्यालयों में सिक्योरिटी फीचर डिग्रीयों को प्रयोग किया जा रहा है। इनमें वॉटरमार्क,सीरियल नंबर,दो कलर्ड चिप सहित कई सिक्योरिटी फीचर्स इस्तेमाल किए गए है। जिससे की फर्जी डिग्री की आशंकाओं को खत्म किया जा सकें। सिक्योरिटी फीचर्स से लैस डिग्रीयों की खास बात यह होती है कि इसे स्कैन या फोटो स्टेट करने के बाद हूबहू वास्तविक डिग्री जैसा प्रिंट नहीं निकाल जा सकता है। अगर कोई डिग्री को स्कैन या कॉपी करने की कोशिश करता भी तो यह संभव नहीं होता है।