स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

संघ के वयोवृद्ध प्रचारक धनप्रकाश त्यागी का निधन, अंतिम संस्कार शनिवार को

Prakash Kumawat

Publish: Jan 24, 2020 19:27 PM | Updated: Jan 24, 2020 20:09 PM

Jaipur

संघ के वयोवृद्ध प्रचारक धनप्रकाश त्यागी का निधन, अंतिम संस्कार शनिवार को क्षेत्रीय प्रचारक दुर्गादास समेत अनेक प्रचारक व पदाधिकारियों दी श्रद्धांजलि भारती भवन में शुक्रवार को ली त्यागी ने अंतिम सांस त्यागी की अंतिम यात्रा शनिवार को 9.30 बजे भारती भवन से 103 वर्षीय त्यागी अंतिम सांस तक रहे पूरी तरह स्वस्थ जयपुर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ प्रचारक धनप्रकाश त्यागी का शुक्रवार को निधन हो गया। वे 103 साल के थे। उन्होंने अपराहृन 4 बजे संघ मुख्यालय भारती भवन में अंतिम सांस ली। उनके निधन की सूचना

संघ के वयोवृद्ध प्रचारक धनप्रकाश त्यागी का निधन, अंतिम संस्कार शनिवार को
क्षेत्रीय प्रचारक दुर्गादास समेत अनेक प्रचारक व पदाधिकारियों दी श्रद्धांजलि
भारती भवन में शुक्रवार को ली त्यागी ने अंतिम सांस
त्यागी की अंतिम यात्रा शनिवार को 9.30 बजे भारती भवन से
103 वर्षीय त्यागी अंतिम सांस तक रहे पूरी तरह स्वस्थ
जयपुर
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ प्रचारक धनप्रकाश त्यागी का शुक्रवार को निधन हो गया। वे 103 साल के थे। उन्होंने अपराहृन 4 बजे संघ मुख्यालय भारती भवन में अंतिम सांस ली। उनके निधन की सूचना पर संघ के प्रचारक, पदाधिकारी संघ मुख्यालय पहुंचे। संघ के अखिल भारतीय बौद्धिक प्रमुख शांतिरंजन, गौसेवा प्रमुख शंकरलाल, लघु उद्योगभारती के संगठनमंत्री प्रकाश चंद्र, क्षेत्रीय प्रचारक दुर्गादास, सह क्षेत्रीय प्रचारक निम्बाराम सहित कई प्रचारकों और भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने त्यागी को पुष्पांजलि अर्पित की।
भाजपा के वरिष्ठ नेता ओमप्रकाश लखावत, दीनदयाल उपाध्याय समिति के नीरज कुमावत सहित कई संगठनों के पदाधिकारियों ने भी भारती भवन जाकर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की।
संघ प्रचारकों के अनुसार धनप्रकाश त्यागी 103 साल की उम्र में भी पूरी तरह स्वस्थ थे। धनप्रकाश के निधन की खबर के बाद संघ और उसके आनुषांगिक संगठनों की चल रही बैठकें व कार्यक्रम स्थगित कर दिए गए। उनका अंतिम संस्कार शनिवार को चांदपोल श्मशान घाट पर होगा। उनकी अंतिम यात्रा संघ मुख्यालय भारती भवन से सुबह 9.30 बजे रवाना होगी।

सभी सरसंघचालकों के साथ काम किया था त्यागी ने
संघ मुख्यालय प्रमुख सुदामा ने बताया कि धनप्रकाश देश के उन चुनिंदा प्रचारकों में से एक थे, जिन्होंने संघ के सभी सरसंघचालकों के सानिध्य तथा उनके साथ काम किया था। वे रोजाना सुबह पांच बजे शाखा जाते थे और नियमित रूप से व्यायाम व प्राणायाम करते थे। हंसमुख स्वभाव के त्यागी रोजाना स्वाध्याय करते थे।

आपातकाल में जेल गए थे त्यागी
संघ पदाधिकारियों के अनुसार घनप्रकाश त्यागी आपातकाल के दौरान जेल गए थे। वे जेल में भी सबका उत्साह बढ़ाते रहते थे। वे स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहते थे और जेल में भी नियमित व्यायाम, प्राणायाम आदि करते थे। अंतिम सांस लेने तक वे अपना दैनिक कार्य स्वयं करते थे।

त्यागी की जीवनी—
धनप्रकाश त्यागी का जन्म 10 जनवरी 1918 में उत्तरप्रदेश के मुजफ्फर नगर जिला स्थित महपुरा गांव में सालिगराम त्यागी के घर हुआ। धनप्रकाश ने विज्ञान संकाय से उच्च माध्यमिक तक शिक्षा प्राप्त करने के बाद दिल्ली में केन्द्र सरकार में क्लर्क की नौकरी ज्वाइन कर ली। लेकिन उनका मन संघ कार्य के जरिए देश सेवा में लगा रहता था। इस दौरान वे स्वयंसेवक बने और 1942 में दिल्ली से संघ का प्राथमिक शिक्षा वर्ग, 1943 में प्रथम वर्ष 1944 में द्वितीय वर्ष तथा 47 में संघ शिक्षा वर्ग-तृतीय वर्ष का प्रशिक्षण लिया।
वे 1943 में दिल्ली के संघ विस्तारक बने। सहारनपुर नगर और अलीगढ नगर प्रचारक के रूप में संघ कार्य किया। अम्बाला, हिसार, गुरूग्राम, शिमला एवं होशियारपुर के जिला प्रचारक रहे। 1962 से 65 तक जम्मू विभाग प्रचारक रहे। संघ कार्य विस्तार के लिए उन्हें जयपुर भेजा गया और 1965 से 1971 तक जयपुर विभाग प्रचारक का दायित्व निभाया। त्यागी ने 1971 से 1986 तक भारतीय मजदूर संघ में विभिन्न दायित्वों का निर्वहन किया। उन्होंने 2000 से 2005 तक सेवा भारती जागरण पत्रक के प्रकाशन का कार्यभार संभाला। त्यागी जीवन की अंतिम सांस लेने तक आज भी उन्होंने अपने स्वयं के कार्य खुद किए। उनका अधिकतर समय स्वाध्याय व लेखन में व्यतीत होता था।

[MORE_ADVERTISE1]