स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

इंदिरा प्रियदर्शनी स्वर्णिम उड़ान योजना में कितने हुए कार्यक्रम देनी होगी जानकारी

MOHIT SHARMA

Publish: Jan 24, 2020 09:49 AM | Updated: Jan 24, 2020 09:49 AM

Jaipur

10 सरकारी कॉलेजों में शुरू हुई थी योजना, 31 जनवरी तक कार्यक्रम कराना जरूरी, विभाग के पास भेजने होगी छात्राओं की फोटो और सूची

जयपुर। प्रदेश के 10 सरकारी कन्या महाविद्यालयों में इंदिरा प्रियदर्शनी स्वर्णिम उड़ान योजना शुरू की गई थी, उसके तहत कॉलेजों में कार्यक्रम होने थे, लेकिन अधिकांश जगहों पर कार्यक्रम हुए ही नहीं। अब कॉलेज शिक्षा विभाग ने कालेजों से इसकी जानकारी मांगी है। इस योजना के तहत कॉलेजों में महिला जागरूकता, महिला अधिकार चेजना, रोजगारोन्मुखी कार्यक्रम, महिला सशक्तिकरण से संबंधित कार्यक्रम कॉलेजों में कराने थे। अधिकांश कॉलेजों में इस योजना के तहत कार्यक्रम हुए या नहीं इसकी विभाग को कॉलेजों ने जानकारी ही नहीं दी। अब ये सभी कार्यक्रम इन सभी कॉलेजों को 31 जनवरी तक पूरे कराने हैं। इंदिरा प्रियदर्शनी स्वर्णिम उड़ान योजना के तहत कॉलेजों में हुए कार्यक्रमों की प्रगति रिपोर्ट विभाग ने मांगी है। इसके तहत हर कॉलेज को छात्राओं की सूची और कार्यक्रम के फोटोग्राफ भी देने होंगे।

यहां शुरू हुई योजना
इंदिरा प्रियदर्शनी स्वर्णिम उड़ान योजना प्रदेश के राजकीय महाविद्याल कन्या भरतपुर, बीकानेर, उदयपुर, बारां, अलवर, अजमेर, कोटा, भीलवाड़ा, बाडमेर और चित्तौड़गढ़ में शुरू हुई।

ये है योजना
प्रदेशभर के सरकारी कॉलेजों में अब बेटियों को महिला रक्षा, स्व—सुरक्षा और महिलाओं से संबंधित अधिकारों की रक्षा के लिए विभिन्न प्रशिक्षण कार्यक्रम शुरू किए गए हैं। कॉलेजों में यह कार्यक्रम सालभर चलेंगे। ये कार्यक्रम रोजगारोन्मुखी तो होंगे ही साथ ही इनमें बेटियों को प्रशिक्षित भी किया जाएगा। इस योजना को प्रदेश के 10 राजकीय कन्या महाविद्यालयों में शुरू किया है।

इनका मिलेगा प्रशिक्षण
कॉलेजों में बेटियों को भयमुक्त स्वास्थ्य एवं सुरक्षित वातावरण सुनिश्चित करने के लिए महिला सुरक्षा एवं अधिकारों से संबंधित विभिन्न कार्यक्रम कराने होंगे। इसके तहत छात्राओं को कम्प्यूटर प्रशिक्षण, रोजगारोन्मुखी शिक्षा केन्द्रि प्रशिक्षण, आत्मरक्षा, स्वास्थ्य ज्ञान, महिला अधिकार, घरेलू हिंसा कानून जागरूकता, कार्यस्थल पर यौन शोषण की रोकथाम, पोक्सो एक्ट, बाल एवं महिला तस्करी एवं इसके विरूदृध कानून के प्रति जागरूकता, बाल विवाह रोकथाम, महिला शिक्षा जागरूकता आदि की जानकारी दी जाएगी।

[MORE_ADVERTISE1]