स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कौओं की मौत के मामले में अगले सप्ताह तक आएगी बरेली से रिपोर्ट

HIMANSHU SHARMA

Publish: Dec 07, 2019 10:11 AM | Updated: Dec 07, 2019 10:11 AM

Jaipur

शुक्रवार को फिर मिले नौ कौओं के शव



जयपुर
सांभर झील में करीब 27 हजार से अधिक प्रवासी पक्षियों की मौत के बाद अब कौओं की मौत का सिलसिला जारी हैं। आनासागर झील के आसपास के क्षेत्र में हो रही कौओं की मौत का सिलसिला रुकने का नाम नहीं ले रहा हैं। शुक्रवार को भी नौ कौओं के शव मिले। जिसके बाद से वन विभाग और पशु चिकित्सा विभाग को समझ में नहीं आ रहा है कि आखिर कौओं की मौत किस कारण से हो रही हैं। शुक्रवार को कौओं के शव इस बार झील के निकट एक गार्डन में मिले हैं। गत माह के अंतिम सप्ताह में शुरू हुआ यह मौत का सिलसिला लगातार जारी हैं। करीब नौ दिन में मृत कौओं की संख्या 85 के करीब पहुंच गई हैं। लेकिन इनकी मौत के कारणों का पता नहीं लग पाया हैं। यही कारण है कि वन विभाग और पशु चिकित्सक अभी तक समझ नहीं पा रहे है कि आखिर इतनी अधिक संख्या में लगातार कौओं की मौत का कारण क्या हैं।
अब रिपोर्ट का इंतजार
मौत के कारणों का खुलासा बरेली से आने वाली रिपोर्ट के बाद ही होगा। कौओं के पोस्टमार्टम के बाद बरेली आइवीआरआइ संस्थान को सैंपल भेजे गए है। जिसकी रिपोर्ट अभी तक नहीं आई है। बरेली से अगले सप्ताह तक रिपोर्ट आने की संभावना है। माना जा रहा है मंगलवार या बुधवार तक रिपोर्ट आ सकती है। जिसके बाद ही मौत के कारणों का खुलासा होगा। हालांकि इससे पहले जांच के लिए सैंपल जयपुर और भोपाल भेजे गए थे। जहां से रिपोर्ट आ चुकी है लेकिन रिपोर्ट से किसी कारणों पर नहीं पहुंचा जा सका हैं। इस रिपोर्ट से यह खुलासा हुआ है कि कौओं की मौत एवियन एन्फ्लूएंजा से नहीं हुई हैं। ऐसे में मौत के दूसरे कारण माने जा रहे हैं। माना जा रहा है कि जहरीला दाना और किसी प्रकार का प्रदूषण भी मौत का कारण बन सकता हैं। यही कारण है कि अब पर्यावरण विभाग भी मौत के कारणों को लेकर जांच करेगा।
रिपोर्ट आने तक सांभर झील बन चुकी थी कब्रगाह
कौओं की मौत का सिलसिला शुरू हुए करीब नौ दिन हो गए हैं। लेकिन अभी तक मौत के कारण सामने नहीं आए है। इसी तरह सांभर झील में भी हुआ था जहां भी विशेषज्ञ बरेली से आने वाली रिपोर्ट का ही इंतजार कर रहे थे। लेकिन जब तक रिपोर्ट आई तब तक हजारों पक्षी मर चुके थे। इसी तरह यहां भी रिपोर्ट आने का इंतजार किया जा रहा है। लेकिन हर दिन कौओं के शव मिलने का सिलसिला जारी हैं।

[MORE_ADVERTISE1]