स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

आईएएस में प्रमोशन : आखिर क्यों मची है अधिकारियों में खींचतान

chandra shekar pareek

Publish: Sep 22, 2019 20:32 PM | Updated: Sep 22, 2019 20:32 PM

Jaipur

शनिवार को परिवहन मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास के सीएम को लिखे एक पत्र ने खासा ध्यान खींचा। इस पत्र में उन्होंने राज्य की नौकरशाही में मची खींचतान को लेकर आरएएस से आईएएस में प्रमोशन पर अपनी बेबाक राय रखी। इससे एक बार फिर ये मुद्दा सुर्खियों में आ गया।

परिवहन मंत्री से पहले अन्य प्रशासनिक सेवाओं के अधिकारियों ने मुख्यमंत्री से मिलकर आईएएस में प्रमोशन को लेकर एक ज्ञापन सौंपा था। अब सवाल है कि आखिर क्यों आईएएस में पदोन्नति को लेकर राज्य के विभिन्न सेवाओं के अफसरों में इतनी खींचतान मची हुई है।
राजस्थान अन्य प्रशासनिक सेवा परिसंघ की ओर से मुख्यमंत्री को ज्ञापन दिया गया कि अन्य राज्य सेवाओं से आईएएस में प्रमोशन कोटा समाप्त करने की आरएएस एसोसिएशन की मांग गलत है।
कोटा 50 फीसदी करने की मांग
प्रतिनिधिमंडल ने आईएएस का पदोन्नति कोटा भी बढ़ाकर 50 प्रतिशत किए जाने की मांग की। इधर, आरएएस एसोसिएशन आईएएस में केवल राज्य प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों को ही पदोन्नत किए जाने की मांग करती रही है।
एक नियम, जिससे मिलता संरक्षण
दरअसल, भारतीय प्रशासनिक सेवा भर्ती नियम के अंतर्गत नियम 81 में प्रावधान है कि आईएएस में पदोन्नति राज्य सिविल सेवा अधिकारियों से ही की जाएगी। इसका अर्थ यह है कि राज्य सिविल सेवा का पात्र अधिकारी उपलब्ध है तो अन्य राज्य सेवा के अधिकारियों संबंधी पदोन्नति पर विचार नहीं किया जाना चाहिए।
किस परिस्थिति में अन्य सेवा से लेंगे
स्टेट सिविल सेवा के अलावा राज्य की अन्य सेवा से आईएएस में पदोन्नति अधिकारी विशेष की आउटस्टैंडिंग एबिलिटी और मेरिट के आधार पर और राज्य सरकार और संघ लोक सेवा आयोग की आपसी समझबूझ के आधार पर हो सकती है।
पेच कहां अटक रहा है
इस समय स्टेट सिविल सेवा से 29 वर्ष में आईएएस में पदोन्नति हो रही है, जबकि अन्य राज्य सेवा के अधिकारी 17-18 वर्ष में ही चयनित होकर आरएएस से आईएएस में पदोन्नत होने वाले अधिकारियों से वरिष्ठ हो जाते हैं।
आरएएस अफसरों का यह है तर्क
आरएएस अफसरों का तर्क है कि प्रदेश की सबसे बड़ी परीक्षा में सबसे अधिक अंक लाने के बाद भी उन्हें 29 साल की सेवा पूरी करने के बाद आईएएस बनने का मौका मिल रहा है, जबकि उनसे कम अंक पाने वालों को 17 साल में ही आईएएस बनाने का मौका दिया जा रहा है।
दोनों तरफ से ज्ञापन
इस मामले में राजस्थान प्रशासनिक सेवा एसोसिएशन की ओर से मांग की गई थी कि अन्य सेवा से आईएएस में प्रमोशन कोटे को पूरी तरह खत्म किया जाए, जबकि अन्य सेवा के विभिन्न संघों के पदाधिकारी प्रमोशन कोटे को बढ़ाने की मांग को लेकर रिप्रेजेंटेशन दे रहे हैं।