स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

दिल्ली में गूंजा जयपुर का दर्द, सांसद बोहरा ने संसद में उठाया रामगढ़ बांध में अतिक्रमण का मामला

Bhavnesh Gupta

Publish: Jul 17, 2019 20:56 PM | Updated: Jul 17, 2019 20:56 PM

Jaipur

जयपुर। रामगढ़ बांध का मामला बुधवार को संसद में भी गूंजा। बांध के बहाव क्षेत्र में अतिक्रमण और इसे हटाने में राज्य सरकार की उदासीनता की स्थिति बताई गई। सांसद रामचरण बोहरा ने मुद्दा उठाते हुए कहा कि रामगढ़ बांध अतिक्रमण का शिकार हैं। जहां एशियाड खेल हुए, वही अपनी पहचान खोने के कगार पर पहुंच गया है। इसके लिए मुख्य रूप से राज्य सरकार की उदासीनता जिम्मेदार हैं। सांसद बोहरा ने कहा कि उच्च न्यायालय के वर्ष 2017 और उच्चतम न्यायालय के निर्देशों के बावजूद भी इसके बहाव क्षेत्र में किए गए अतिक्रमण व अवरूद्धों को नहीं हटाया जा रहा है।

 

 

 

उन्होंने सदन को बताया कि केवल बीसलपुर बांध पर ज्यादातर समय तक निर्भर नहीं रहा जा सकता है। इसलिए राज्य सरकार के साथ मिलकर जयपुर की पेयजल समस्या के समाधान के लिए दीर्घकालीन योजना बनानी होगी, ताकि जनता को शुद्ध पेयजल उपलब्ध हो सके। साथ ही रामगढ बांध अपने पुराने गौरव और स्वरूप को प्राप्त कर सके। बोहरा रामगढ़ बांध को पुनर्जीवित करने एवं जयपुर के पेयजल समस्या के समाधान को लेकर मामला उठाते रहे हैं। गौरतलब है कि बांध के बहाव क्षेत्र में करीब 700 अतिक्रमण बताए जा रहे हैं, जबकि कार्रवाई कुछ ही पर हुई है।

 

 

मॉनिटरिंग कमेटी का दौरा
कई वर्षों से जयपुर की प्यास बुझाने वाला रामगढ़ बांध आज खुद प्यासा नज़र आ रहा है। पिछले दिनों राजस्थान हाईकोर्ट की मानिटरिंग कमेटी के द्वारा बहाव क्षेत्र के लिए गठित कमेटी के सदस्य ने रामगढ़ बांध कैचमेंट एरिया का दौरा कर जायजा लिया। ग्रामीणों ने बताया कि कई महीनों से अतिक्रमियों ने बाणगंगा नदी व बहाव क्षेत्र में जुताई तक कर दी। वही अधिकारी गरीब लोगों को करवाई कर इतिश्री कर लेते है ओर बड़े लोगो के बने फार्म हाउस आज भी खड़े है, लेकिन आज भी कई जगह बहाव क्षेत्र में खेती के लिए बुवाई की जा रही है। रामगढ़ बांध को भरने वाली मुख्य बाणगंगा नदी व सहायक नदी नालो में अतिक्रमण को रोकने के लिए माॅनिटरिंग कमेटी ने मौैके पर जिम्मेदार अधिकारियों को लताड़ लगते हुए बाणगंगा नदी व बहाव क्षेत्र में हो रहे अतिक्रमण को मानसून से पहले हटाने के सख्त निर्देश दिए।