स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

उत्तरी भारत में बर्फबारी से राजस्थान के न्यूतम तापमान में गिरावट, माउंट आबू पहुंचा 2.2 डिग्री

Pushpendra Singh Shekhawat

Publish: Dec 14, 2019 21:44 PM | Updated: Dec 14, 2019 21:44 PM

Jaipur

मौसम विभाग की चेतावनी: छाया रहेगा कोहरा, राजस्थान में सबसे कम माउंट आबू 2.2, फतेहपुर में 2.6 डिग्री

विजय शर्मा / जयपुर। प्रदेश में बारिश और ओलावृष्टि के बाद अब सर्दी फिर जोर पकड़ रही है। उत्तरी भारत में बर्फबारी से प्रदेश के न्यूतम तापमान में गिरावट हो रही है। प्रदेश में माउंट आबू में सबसे कम न्यूनतम पारा 2.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है। इसके बाद फतेहपुर में 2.6 डिग्री न्यूनतम पारा दर्ज किया गया है। वहीं जयपुर के न्यूनतम तापमान में पांच डिग्री की गिरावट दर्ज की गई। शुक्रवार को राजधानी का न्यूनतम तापमान जहां 14 था वहीं शनिवार को वह गिरकर 9 डिग्री पर आ गया। इधर दिनभर गलन भरी सर्दी ने जनजीवन को पूरी तरह अस्त-व्यस्त कर दिया। कई जिलों में सुबह घना कोहरा छाया रहा। दिन में शीतलहर चलने से गलन और ठिठुरन का अहसास रहा।

आज भी रहेगा कोहरे का कहर
शीतलहर के साथ इस दौरान धूप खिलने के आसार भी बेहद कम रहेंगे। मौसम विभाग के अनुसार रविवार को भी प्रदेश के कई जिलों में घना कोहरा छाया रहेगा। विभाग के अनुसार पूर्वी राजस्थान के सीकर, झुंझुनूं, अलवर, धौलपुर, दौसा, भरतपुर, करौली व पश्चिमी राजस्थान के चूरू, श्रीगंगानगर, बीकानेर, हनुमानगढ़ के कई इलाकों में घना कोहरा छाया रहेगा।

सर्दी बढ़ेगी, फसलों को बचाएं
मौसम में आ रहे उतार-चढ़ाव को देखते हुए कभी भी पाला गिर सकता है। इस स्थिति से बचने के लिए किसानों को फसल के बचाव के उपाय करने के लिए तैयार रहना चाहिए। कृषि विशेषज्ञों की माने तो मौसम साफ होते ही सर्दी का असर बढ़ जाएगा। फलदार पौधों को पाले से बचाने के लिए पूर्व-पश्चिम की ओर थोड़ा खुला छोड़कर मूंज से पौधों को ढक दें और ड्रिप से पानी देते रहे। इसके अलावा व्यापारिक गंधक का अम्ल की एक मिली लीटर को एक लीटर पानी में घोलकर पौधों पर छिड़काव करें।

16 से शुरू होंगे चिल्ला
जानकारी के अनुसार 16 दिसम्बर को सूर्य धनु राशि में प्रवेश करने जा रहे हैं। इससे पंचग्रही योग बनेगा। इसके कारण 24 जनवरी तक सर्दी का चिल्ला रहेगा। चिल्ला के दौरान शीतलहर के साथ ओले गिरने की प्रबल संभावना बताई जा रही है। पौष मास के पहले सप्ताह में सर्दी का चिल्ला शुरू होने से आने वाले करीब डेढ़ महीने तक कड़ाके की ठंड पड़ेगी। जानकारों का कहना है कि पंचग्रही योग के कारण इस बाद सर्दी के तेवर तीखे रहेंगे।

[MORE_ADVERTISE1]