स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

महात्मा गांधी जन आधार कार्ड की 17 को किसान रैली में सरकार देगी सौगात

Sunil Singh Sisodia

Publish: Dec 11, 2019 10:28 AM | Updated: Dec 11, 2019 10:28 AM

Jaipur

 

भामाशाह कार्ड के विकल्प के रूप में होगा जन आधार कार्ड , निरोगी राजस्थान अभियान की तैयारी पर भी सरकार की तेजी , विद्याधर नगर में किसान रैली को लेकर आज हो सकता है फैसला , केबिनेट व मंत्री परिषद की मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की अध्यक्षता में बैठक आज

 

 

जयपुर।

राज्य की कांग्रेस सरकार अपनी पहली वर्षगांठ पर 17 को महात्मा गांधी जन आधार कार्ड की बड़ी सौगात देने जा रही है। इसके साथ ही दूसरी बड़ी घोषणा निरोगी राजस्थान अभियान की होगी। संभवत: औद्योगिक व अन्य पॉलिसी की तैयारी नहीं हो पाने के कारण फिलहाल इनमें अभी ओर देरी हो सकती है। पहली वर्षगांठ को लेकर बड़े स्तर पर किसान रैली का विद्याधर नगर में आयोजन किया जा सकता है। यह रैली वैसी ही होगी, जो मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राज्य की सत्ता में आते ही विद्याधर नगर में की थी। जिसमें किसान ऋण माफी योजना का एलान कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी से कराया गया था।

जानकारी के मुताबिक बुधवार को बुलाई गई केबिनेट और मंत्री परिषद की बैठक में राज्य में पहली वर्षगांठ के आयोजन और की जाने वाली नई घोषणाओं को अंतिम रूप दिया जाएगा। इसमें आयोजन राज्य के अलावा संभाग, जिला और उपखण्ड मुख्यालयों पर करने, सरकारी की बड़ी उपलब्धियां इन आयोजन में बताने और नए वर्ष में की जाने वाली घोषणाओं को लेकर चर्चा होगी। बताया जा रहा है कि मुख्यमंत्री किसान रैली में किसान हित में ऋण ब्याज में कटौती सहित अन्य कई एलान भी कर सकते हैं।

कांग्रेस पार्टी की ओर से पूर्ववर्ती सरकार में शुरू की गई भामाशाह योजना में कार्डों पर पूर्व मुख्यमंत्री के फोटो और पार्टी के चुनाव चिन्ह सहित उसके रंग को लेकर विरोध कर रही थी। सत्ता में आने पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भामाशाह योजना के जरिए अस्पतालों में हो रही गड़बड़ी का भी आरोप लगाया था। जिसकी फिलहाल जांच चल रही है।

केबिनेट व मंत्री परिषद की बैठक में पहली वर्षगांठ के आयोजनों की तैयारी को लेकर बनाई गई कमेटी की रिपोर्ट भी रखी जाएगी। कमेटी ने मुख्यमंत्री के निर्देश पर आयोजनों को लेकर व्यापक रूपरेखा तैयार की है। एक दिन पहले किसान रैली के आयोजन को लेकर कृषि विभाग के अधिकारियों की उच्च स्तरीय बैठक भी सचिवालय में बुलाई गई थी। जिसमें आयोजन की तैयारी को लेकर अधिकारियों ने लंबी मंत्रणा की थी।

[MORE_ADVERTISE1]