स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

केंद्रीय नेतृत्व के आदेश हवा, चहेतों को मंडल अध्यक्ष बनाने में जुटे नेता

Umesh Sharma

Publish: Nov 30, 2019 14:49 PM | Updated: Nov 30, 2019 14:49 PM

Jaipur

भाजपा संगठन चुनाव में देरी कर रही है। तय समय सीमा से 10 दिन ज्यादा हो चुके हैं, लेकिन अभी तक मंडल अध्यक्षों के चुनाव नहीं हो पाए हैं। मगर इन सबके बीच जो बात छनकर आ रही है वो यह है कि पार्टी के वरिष्ठ नेता अपने चहेतों को मंडल अध्यक्ष बनाने की जुगत में लग गए हैं।

जयपुर।

भाजपा संगठन चुनाव में देरी कर रही है। तय समय सीमा से 10 दिन ज्यादा हो चुके हैं, लेकिन अभी तक मंडल अध्यक्षों के चुनाव नहीं हो पाए हैं। मगर इन सबके बीच जो बात छनकर आ रही है वो यह है कि पार्टी के वरिष्ठ नेता अपने चहेतों को मंडल अध्यक्ष बनाने की जुगत में लग गए हैं। ऐसे में केंद्रीय नेतृत्व के उन आदेशों की धज्जियां उड़ती दिख रही है, जिसमें साफ तौर पर निर्देश दिए गए थे कि 40 से कम उम्र के नेताओं को मंडल अध्यक्ष बनाया जाए, ताकि वे सक्रियता से पार्टी को आगे बढ़ा सकें।

मंडल अध्यक्षों का चुनाव 18, 19 नबम्बर को पूरे प्रदेश में होना था और 20 नबम्बर तक नामों घोषणा करनी थी, लेकिन निकाय चुनाव की वजह से इसमें देरी हो गई। पार्टी चाहती थी कि आपसी सहमति से मंडल अध्यक्ष बनाए जाएं, लेकिन ज्यादातर मंडलों में एक से ज्यादा आवेदन प्राप्त हो गए। यही नहीं अकेले जयपुर के 32 मंडलों में 300 से ज्यादा आवेदन मिले है, इसके चलते प्रदेश चुनाव प्रभारी के साथ जिला संगठन चुनाव प्रभारी बैठकें कर रहे हैं। ताकि सहमति बनाई जा सके।

देरी की एक वजह ये भी
विधायक और सांसद लगातार पार्टी मुख्यालय के चक्कर लगाकर जिला संगठन चुनाव प्रभारी से मिलकर अपने चहेतों के नामों को आगे कर रहे हैं। विधायकों के चहेतों की उम्र कई स्थानों पर ज्यादा है। ऐसे में विधायक और सांसद जिला संगठन प्रभारी पर दबाव बना रहे हैं, जिसके कारण प्रदेश के ज्यादातर मडलों में अभी तक मंडल अध्यक्षों की नियुक्ति नहीं हो सकी है। भाजपा मुख्यालय में चौमूं विधायक रामलाल शर्मा, पूर्व विधायक लक्ष्मीनारायण बैरवा, कैलाश वर्मा, सुरेन्द्र पारीक सहित कई विधायक और पूर्व विधायक अपने चहेतों को बनाने के लिए गुहार लगाने पहुंचे।

दिसंबर में होना है प्रदेशाध्यक्ष का चुनव
भाजपा प्रदेशाध्यक्ष की आलाकमान ने नियुक्ति् कर दी है, मगर प्रदेशाध्यक्ष का विधिवत चुनाव दिसंबर के पहले सप्ताह में होना है। इसी महीने राष्ट्रीय अध्यक्ष का भी चुनाव होगा। ऐसे में पार्टी केंद्रीय नेतृत्व के युवा चेहरों को मंडल अध्यक्ष बनाने के निर्देशों की पालना करते हुए सहमति बनाने में प्रयास में जुटी है।

[MORE_ADVERTISE1]