स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

राजस्थान: बैनर ओढ़कर विधानसभा पहुंच गईं BJP MLA, गहलोत सरकार से करने लगी ये मांग

Nakul Devarshi

Publish: Jan 24, 2020 13:20 PM | Updated: Jan 24, 2020 13:25 PM

Jaipur

Rajasthan BJP MLA Santosh Bawri protest on Grasshopper attack: विधायकों ने अपने-अपने तरीके से किसानों का दर्द सरकार तक पहुंचाने की कोशिश की। ऐसे ही विधायकों में से एक रहीं श्री गंगानगर ज़िले से अनूपगढ़ विधायक संतोष बावरी ( BJP MLA Santosh Bawri )।

जयपुर।

राजस्थान विधानसभा ( Rajasthan Assembly Session ) के शुक्रवार से शुरू हुए सत्र के दौरान कुछ ज़िलों के विधायक किसानों को टिड्डियों के हमले ( Grasshopper Attack ) से हो रहे नुकसान का मामला लेकर पहुंचे। इन विधायकों ने अपने-अपने तरीके से किसानों का दर्द सरकार तक पहुंचाने की कोशिश की। ऐसे ही विधायकों में से एक रहीं श्री गंगानगर ज़िले से अनूपगढ़ विधायक संतोष बावरी ( BJP MLA Santosh Bawri )।


भाजपा विधायक संतोष बावरी सदन में टिड्डियों का मुद्दा उठाने के लिए सन्देश लिखा एक बैनर पहनकर पहुंची। बैनर में लिखा हुआ था, ''बीकानेर संभाग में टिड्डी प्रभावित क्षेत्रों को आपदाग्रस्त क्षेत्र घोषित कर शीघ्र मुआवज़ा दिलाये जाए।''


बैनर पहनकर विधानसभा की कार्रवाही में पहुंचने का बावरी का अंदाज़ सदन के अंदर और बाहर चर्चा का विषय बना रहा। बावरी के साथ ही कुछ अन्य विधायकों ने भी टिड्डी प्रभावित क्षेत्रों के किसानों को मुआवज़ा देने के लिए सरकार का ध्यान खींचा।


दरअसल, श्रीगंगानगर ज़िले के कई क्षेत्रों के किसान टिड्डियों के हमलों से नुक्सान झेल रहे हैं। पिछले कुछ दिनों से पाकिस्तान की ओर से टिड्डियों का दल यहां आकर फसलों को खासा नुक्सान पहुंचा रहा है। किसान इन टिड्डियों को भगाने के लिए कई तरह के जतन करने को मजबूर हैं। टिड्डियों से बचाव के लिए किसान खेतों में या तो धुआं करते हैं या फिर पीपे और थाली बजा कर शोर करते हैं। कई जगहों पर किसान साइलेंसर उतारकर ट्रैक्टरों को भी दौड़ा रहे हैं।


क्षेत्र में बरसात के कारण बारानी खेतों में चना फसल की बिजाई हुई थी। दो बार मावठ से किसानों को भरपूर फसल होने की आस थी। लेकिन टिड्डियों के फसलों पर बार-बार हमले करने से किसानों में मायूसी है।

कृषि विभाग के सहायक निदेशक पृथ्वीराज के अनुसार टिड्डियों के बड़े झुंडों का पाकिस्तान से निरंतर आने का सिलसिला जारी है तथा विभाग के पास टिड्डी नियंत्रण के साधन सीमित हैं। अत: किसानों के सहयोग से ट्रैक्टर किराए पर लेकर टिड्डी नियंत्रण के प्रयास किए जाएंगे।

[MORE_ADVERTISE1]