स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

ठेकेदारों की लापरवाही या विभाग की अनदेखी, बीच सड़क पर व्यर्थ बह रहा 'अमृत'

Anant Kumar Das

Publish: Oct 21, 2019 20:25 PM | Updated: Oct 21, 2019 20:25 PM

Jaipur

बूंदी के कवाई कस्बे में इन दिनों व्यर्थ में अमृत बह रहा है। दरअसल, कुछ दिनों पहले यहां शेरगढ़ परियोजना के तहत बिछाई गई पेयजल सप्लाई की लाइने कम गहराई में डालने से कई बार टूट चुकी है। जिससे यहां रोज हजारों लीटर पानी यूं ही सड़कों पर व्यर्थ बह रहा है। कुछ दिनों पहले हुए कार्य के दौरान कस्बे मे बिछाई गई पेयजल सप्लाई लाइन में की गई लापरवाही के चलते यहां आये दिन हजारों लीटर पानी सड़क पर व्यर्थ बहता है।

बूंदी के कवाई कस्बे में इन दिनों व्यर्थ में अमृत बह रहा है। दरअसल, कुछ दिनों पहले यहां शेरगढ़ परियोजना के तहत बिछाई गई पेयजल सप्लाई की लाइने कम गहराई में डालने से कई बार टूट चुकी है। जिससे यहां रोज हजारों लीटर पानी यूं ही सड़कों पर व्यर्थ बह रहा है। कुछ दिनों पहले हुए कार्य के दौरान कस्बे मे बिछाई गई पेयजल सप्लाई लाइन में की गई लापरवाही के चलते यहां आये दिन हजारों लीटर पानी सड़क पर व्यर्थ बहता है।

जानकारी के अनुसार, कस्बे में पानी की किल्लत को देखते हुए सरकार की ओर से कस्बे को शेरगढ़ परियोजना से जोड़ा गया था। जिसके तहत कस्बे में शेरगढ़ का पानी पहुंचाने के लिए परियोजना के ठेकेदार की ओर से यहां लाइनें बिछाई गई थीं। जो समय अवधि पार होने के बाद यहां आनन-फानन में पुरानी सप्लाई लाइन के ऊपर ही मुख्य सड़क से कम गहराई में बिछा दी गई। ऐसे में यहां से कई बार वाहनों की आवाजाही के चलते पाइप टूट जाता है।

बतादें कि कस्बे के सालपुरा क्षेत्र स्थित शेरगढ़ परियोजना के पंप हाउस से कवाई तेजाजी चौक स्थित जलदाय विभाग परिसर स्थित टंकी में जोड़ने के लिए कस्बे से होकर निकलने वाले स्टेट हाईवे से होकर लाइन बिछाई गई थी। जिसको तेजाजी चौक के सामने स्टेट हाईवे से क्रॉस करते समय पुरानी लाइन के ऊपर ही सड़क से कम गहराई में बिछा दिया गया। पाइप टूटने के बाद पीने योग्य हजारों लीटर पानी यूं ही सड़कों पर बहकर बर्बाद हो रहा है। इतना ही नहीं, यहां से गुजरने वाले वाहन चालकों को भी इससे परेशानी होती है, तो वहीं पैदल आवाजाही में भी राहगीरों को भारी समस्या का सामना करना पड़ता है। सड़क पर कीचड़ होने से आस पास के दुकानदार भी परेशान हैं। उधर, फूटे पाइप लाइनों से पानी व्यर्थ बहने से कस्बे की पेयजल सप्लाई में भी आयेदिन समस्या होती है।