स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Petrol Price : आज भरवा लें पेट्रोल-डीजल, कल नहीं मिलेगा

Pawan kumar

Publish: Oct 22, 2019 09:21 AM | Updated: Oct 22, 2019 09:21 AM

Jaipur

—- प्रदेशभर में पेट्रोल पंप (Petrol Pump) संचालक रहेंगे हड़ताल (Strike) पर

जयपुर। आप आज ही अपने वाहन में पेट्रोल-डीजल (Petrol-Diesel price) भरवा लें, क्योंकि कल से प्रदेशभर के पेट्रोल पम्प 24 घंटे के लिए बंद रहने वाले हैं। राजस्थान पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन के आह्वान पर पेट्रोल पंप संचालक हड़ताल पर रहेंगे।
जानकारी के अनुसार 23 अक्टूबर सुबह 6 बजे से 24 अक्टूबर सुबह 6 बजे तक प्रदेशभर के पेट्रोल पंप बंद रहेंगे। इस दौरान राज्य के किसी भी पेट्रोल पंप से पेट्रोलियम पदार्थों की बिक्री नहीं की जाएगी, सभी पेट्रोल पंप बंद रहेंगे।

सभी जिलों रेट अलग-अलग
राजस्थान पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन के पदाधिकारियों का कहना है कि राजस्थान में वैट की दर पड़ोसी राज्यों से ज्यादा है, इसलिए राजस्थान में पंजाब और हरियाणा समेत पड़ोसी राज्यों के मुकाबले पेट्रोल—डीजल महंगे हैं। दूसरे राज्यों से सटी सीमा क्षेत्र के लोग राजस्थान के पेट्रोल पंप की बजाय दूसरे राज्यों से पेट्रोल—डीजल खरीदते हैं। इससे राजस्थान में पेट्रोल पंप संचालकों को नुकसान उठाना पड़ रहा है। इसी तरह से राजस्थान के सभी जिलों में पेट्रोल-डीजल के भाव अलग-अलग है। इससे उपभोक्ताओं को नुकसान उठाना पड़ रहा है। राजस्थान के सभी लोगों को पड़ोसी राज्यों की तर्ज पर कम रेट में पेट्रोल-डीजल मिले, इसके लिए हड़ताल बुलाई गई है।

श्रीगंगानगर में पेट्रोल-डीजल सबसे महंगे
एसोसिएशन ने प्रदेश के सभी जिलों में पेट्रोल-डीजल की रेट लिस्ट ( Rate List)जारी करके बताया है कि हर जिले में पेट्रोलियम पदार्थों की कीमतों में अंतर है। श्रीगंगानगर जिले में पेट्रोल—डीजल सबसे महंगे हैं। श्रीगंगानगर में पेट्रोल 80 रूपए 65 पैसे प्रति लीटर है, तो डीजल 74 रूपए 45 पैसे। जबकि कोटा में पेट्रोल के भाव सबसे कम 76 रूपए 97 पैसे हैं और डीजल के दाम 71 रूपए 12 पैसे प्रति लीटर। जयपुर में पेट्रोल में 77 रूपए 21 पैसे और डीजल 71 रूपए 55 पैसे प्रति लीटर। इसे देखते हुए राजस्थान पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन ने प्रदेशभर में पेट्रोल डीजल के दाम एक समान करने और वैट की दरें पड़ोसी राज्यों के बराबर करने की मांग की है। इन्हीं दोनों मांगों को लेकर 24 घंटे की हड़ताल बुलाई गई है।