स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पपला के अब तक 13 साथियों पर कसा शिकंजा,लेकिन पपला सहित छह पचास हजार के इनामी अभी भी फरार

HIMANSHU SHARMA

Publish: Sep 16, 2019 10:10 AM | Updated: Sep 16, 2019 10:10 AM

Jaipur

अब तक पकड़े गए साथियों की पूछताछ के आधार पर छापेमारी जारी

जयपुर
फायरिंग कर भागने के मामले में पुलिस ने बदमाश पपला को पकड़ने के लिए एडी चोटी का जोर लगा दिया है। लेकिन बदमाश पपला व उसके छह अन्य साथी अभी भी पुलिस की पकड़ से दूर हैं। हालांकि कुल बदमाशों में से पुलिस के हत्थे अब तक 13 बदमाश चढ़ चुके हैं। लेकिन मुख्य बदमाश पपला को लेकर पुलिस पूरी तरह खाली हाथ हैं। पुलिस के हत्थे चढ़े 13 बदमाशों की पूछताछ के आधार पुलिस को नई जानकारियां मिल रही हैं। यही कारण है कि पुलिस ने हरियाणा और अलवर के कई इलाकों में छापेमारी भी की लेकिन पपला को लेकर पुलिस को कोई खास जानकारी हाथ नहीं लगी हैं। हालांकि पपला के सात साथियों जिन पर ईनाम घोषित था उसमें से एक साथी दीक्षांत गुर्जर को पुलिस ने रविवार को पकड़ लिया लेकिन इनमें से अभी भी छह साथी जिन पर पचास हजार का ईनाम घोषित है वह फरार हैं।
हरियााणा या यूपी में छूपा हो सकता है बदमाश
मोस्टवांटेड विक्रम उर्फ पपला गुर्जर फरार होने के बाद पुलिस की कई टीमें उसे खोजने में लगी हुई हैं। पुलिस को मिली जानकारियों के अनुसार पपला हरियाणा या यूपी में छूपा हो सकता हैं। वहीं रविवार को पकड़ा गया साथी दीक्षांत से मिली जानकारी के आधार पर उसके अन्य छह साथियों को लेकर भी पुलिस के हाथ अहम सुराग लगे हैं। पुलिस ने बताया कि दीक्षांत महेंद्रगढ़ के कॉलेज से बीएससी कर रहा है और उसके पिता व्याख्याता हैं। लेकिन शराब के ठेके में साझेदारी से उसने अपराध के की दूनियां में कदम रखा और पपला की गैंग में शामिल हो गया। उसके अन्य साथी बल्लू उर्फ बलवान, चंद्रपाल उर्फ चंदू,राहुल, प्रशांत,अशोक गुर्जर और राजवीर भी हरियाणा के ही रहने वाले हैं। जो अभी फरार चल रहे हैं। वहीं दीक्षांत और दिनेश की गिरफ्तार हो चुके हैं। वहीं मामले को लेकर डीजीपी ने कहा कि राजस्थान व हरियाणा की पुलिस मिलकर बदमाशों की तलाश कर रही है। सभी जल्द पकड़ में होंगे।