स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

भाजपा में सब कुछ ठीक तो फिर संगठन चुनाव में लेटलतीफी क्यों?

Umesh Sharma

Publish: Dec 12, 2019 19:45 PM | Updated: Dec 12, 2019 19:45 PM

Jaipur

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां लगातार कह रहे हैं कि संगठन में सबकुछ सही चल रहा है, लेकिन संगठन चुनाव में लगातार हो रह लेटलतीफी तो कुछ ओर ही इशारा कर रही है। अभी तक पार्टी आधे मंडल अध्यक्षों की घोषणा भी नहीं कर पाई है।

जयपुर।

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां लगातार कह रहे हैं कि संगठन में सबकुछ सही चल रहा है, लेकिन संगठन चुनाव में लगातार हो रह लेटलतीफी तो कुछ ओर ही इशारा कर रही है। अभी तक पार्टी आधे मंडल अध्यक्षों की घोषणा भी नहीं कर पाई है। यही नहीं जयपुर शहर और देहात का मामला भी उलझा पड़ा है। एेसे में कयास लगाए जा रहे हैं कि संगठन में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा।

नवंबर तक जिस चुनाव प्रक्रिया को पूरा करना था वह आधा दिसंबर बीत जाने के बाद भी पूरी नहीं हो पाई है। अब तक 52 हजार बूथों में से 41 हजार बूथ, 1049 मंडलों में से 582 मंडलों में चुनाव हुए है। अभी तक 467 मंडलों में चुनाव प्रक्रिया पूरी नहीं हो पाई है। इसका सबसे बड़ा कारण है जिलों में स्थानीय नेताओं के बीच आपसी गुटबाजी और खींचतान है।

जयपुर में भी हाल खराब

जयपुर शहर और देहात के एक भी मंडल अध्यक्ष का चयन नहीं हो पाया है। शहर और देहात के विधायक, पूर्व विधायक और प्रदेश के पदाधिकारियों के दखल की वजह से इन मंडलों के चुनावों को रोक लिया गया है। जिले के चुनावों की प्रकिया को शुरू हो चुकी है। इसके बाद प्रदेषाध्यक्ष का चुनाव किया जाएगा।

नहीं बन पा रही है सहमति

मंडलों में अध्यक्ष के लिए कई लोगों ने नामांकन भरे हैं। पार्टी चाहती है कि सभी जगहों पर आपसी सहमति से चयन किया जाए। मगर कई जगहों पर विधायकों और स्थानीय नेताओं के बीच तनातनी हो गई, जिसकी वजह से मामला अटका पड़ा है।

[MORE_ADVERTISE1]